अपनी गली में अपना ही घर ढूँढ़ते हैं लोग – फ़राज़

GALI

 

टूट कर  चाहेगा  मुझे

सोचा था के वो बहुत टूट कर  चाहेगा  मुझे “फ़राज़”
लेकिन “चाहा ” भी हम ने और टूटे भी हम

 

Toot Kar  Chahayga

SOCHA Tha ke wo bahut toot kar  CHAHAYGA  mujhe  “FARAZ”
Lekin “Chaha” bhi Humne aur toote bhi  HUM

urdu and Hindi Shayari – FARAZ – SOCHA Tha ke wo bahut toot kar CHAHAYGA  mujhe 
Like it
[Total: 176 Average: 3.1]

शहर

अपनी गली में अपना ही घर ढूँढ़ते हैं लोग 
यह कौन शहर का नक़्शा बदल गया

 

Shehar

Apni gali mein apna hi ghar dhoondte hain log,
Yeh kaun shehar ka naqsha badal gaya

urdu and Hindi Shayari – FARAZ –Apni gali mein apna hi ghar dhoondte hain log
Like it
[Total: 176 Average: 3.1]

Originally posted 2017-06-24 11:59:55.

Related Post

Author: manytalk

आओ बातें करें और हमारे पोस्ट के बारे में हमे बताइये - Please Post the comment