आरजू-ऐ-गुफ़्तगू – आतिश हैदर अली की शायरी

 

मुझ को इस इश्क़ के बीमार ने सोने न दिया

यार को मैंने मुझे यार ने सोने न दिया
रात भर ताली -ऐ -बेदार ने सोने न दिया

एक शब बुल _बुल -ऐ -बेताब के जागे न नसीब
पहलू -ऐ -गुल में कभी खार ने सोने न दिया

रात भर की दिल -ऐ -बेताब ने बातें मुझ से
मुझ को इस इश्क़ के बीमार ने सोने न दिया

हिंदी और उर्दू शायरी – आतिश हैदर अली की शायरी – यार को मैंने मुझे यार ने सोने न दिया

 

Mujh Ko Is Ishq Ke Biimaar Ne Sone Na Diyaa

Yaar Ko maine Mujhe Yaar Ne Sone Na Diyaa
Raat Bhar Taali-AE-Bedaar Ne Sone Na Diyaa

Ek Shab Bul_Bul-E-Betaab Ke Jaage Na Nasiib
Pahaluu-E-Gul Mein Kabhii Khaar Ne Sone Na Diyaa

Raat Bhar Ki Dil-AE-Betaab Ne Baatein Mujh Se
Mujh Ko Is Ishq Ke Biimaar Ne Sone Na Diyaa

Hindi and urdu shayari – Aatish Haider Ali ki shayari – Yaar Ko maine Mujhe Yaar Ne Sone Na Diyaa

तेरा फ़साना

सुन तो सही जहां में है तेरा फ़साना क्या
कहती है तुझ से ख़ल्क़ -ऐ -खुदा गैबाना क्या

जीना सबा का ढूँढती है अपनी मुश्त -ऐ -ख़ाक
बाम -ऐ -बलंद यार का है आस्ताना क्या

आती है किस तरह से मेरी कब्ज़ -ऐ -रूह को
देखूँ तो मौत ढूँढ रही है बहाना क्या

बेताब है कमाल हमारा दिल-ऐ -अज़ीम
मेहमान सराय -ऐ -जिस्म का होगा रवाना क्या

हिंदी और उर्दू शायरी – आतिश हैदर अली की शायरी – सुन तो सही जहां में है तेरा फ़साना क्या

 

Teraa Fasaanaa

Sun To Sahii Jahaain Main Hai Teraa Fasaanaa Kyaa
Kehti Hai Tujh Se Khalq-E-Khudaa Gaibaanaa Kyaa

Zenaa Sabaa Kaa Dhuundhati Hai Apani Musht-AE-Khaak
Baam-AE-Baland Yaar Ka Hai Aastaanaa Kyaa

Aati Hai Kis Tarah Se Meri Kabz-AE-Ruuh Ko
Dekhuuin To Maut Dhuundh Rahi Hai Bahaanaa Kyaa

Betaab Hai Kamaal Hamaaraa Dil-AE-Aziim
Mahamaan Saaraay-AE-Jism Kaa Hogaa Ravanaa Kyaaa

Hindi and urdu shayari – Aatish Haider Ali ki shayari – Sun To Sahii Jahaain Main Hai Teraa Fasaanaa Kyaa

यह आरज़ू थी

यह आरज़ू थी तुझे गुल के रू -बा -रू करते
हम और बुल बुल -ऐ -बेताब गुफ्तगू करते

पयामबार न मयस्सर हुआ तो खूब हुआ
ज़बान -ऐ -गैर से क्या शर की आरज़ू करते

मेरी तरह से माह-ओ-महार भी हैं आवारा
किसी हबीब को यह भी हैं जुस्तजू करते

जो देखते तेरी ज़ंजीर -ऐ -ज़ुल्फ़ का आलम
असर होने के आज़ाद आरज़ू करते

न पूछ आलम -ऐ -बरगश्ता ताली -ऐ – “आतिश”
बरसाती आग मैं जो बहाराँ की आरज़ू करते

हिंदी और उर्दू शायरी – आतिश हैदर अली की शायरी – सुन तो सही जहां में है तेरा फ़साना क्या

 

Yeah Aarazu

Yeah Aarazuu Thi Tujhe Gul Ke Ruu-Ba-Ruu Karate
Ham Aur Bul Bul-AE-Betaab Guftaguu Karte

Payaam Bar Na Mayassar Huaa To Khuub Huaa
Zabaan-AE-Gair Se Kyaa Shar Kii Aarazuu Karate

Meri Tarah Se Maah-O-Mahar Bhi Hain Avara
Kisi Habiib Ko Yeh Bhi Hain Justajuu Karate

Jo Dekhate Teri Zanjeer-AE-Zulf Ka Aalam
Asar Hone Ke Aazaad Aarazuu Karate

Na Puuchh Aalam-AE-Baragashtaa Taali-AE-Aatish
Barasatii Aag Main Jo Baaraan Ki Aarazuu Karate

Hindi and urdu shayari – Aatish Haider Ali ki shayari – Yeah Aarazuu Thi Tujhe Gul Ke Ruu-Ba-Ruu Karate

 

 

आओ बातें करें और हमारे पोस्ट के बारे में हमे बताइये - Please Post the comment