हर एक सांस पर शक है के आखरी होगी – अल्लम इक़बाल शायरी

bada be-adab hoon

 

बड़ा बे-अदब हूँ

तेरे इश्क़ की इन्तहा चाहता हूँ
मेरी सादगी देख क्या चाहता हूँ
भरी बज़्म में राज़ की बात कह दी
बड़ा बे-अदब हूँ , सज़ा चाहता हूँ

हिंदी और उर्दू शायरी – अल्लम इक़बाल शायरी – कहाँ जाएंगे तेरे शहर से

 

Bada be-Adab Hoon

Tairay ishq kii intehaa chahataa hoon
mairi saadagii daikh kyaa chahataa hoon
bharii bazm mein raaz ki baat kah di
bada bai-adab hoon, sazaa chahataa hoon

Hindi and urdu shayari – Allama Iqbal ki shayari – bada bai-adab hoon
Like it
[Total: 217 Average: 2.9]

इक़बाल दुनिया तुझ से नाखुश है

बड़े इसरार पोशीदा हैं इस तनहा पसंदी में .
यह मत समझो के दीवाने जहनदीदा नहीं होते .
ताजुब क्या अगर इक़बाल दुनिया तुझ से नाखुश है
बहुत से लोग दुनिया में पसंददीदा नहीं होते .

हिंदी और उर्दू शायरी – अल्लम इक़बाल शायरी – इक़बाल दुनिया तुझ से नाखुश है

 

IQBAL dunia tujh se nakhush hai

Barray israr poshida hain is tanha pasnadi mein.
Ye mat samjho k dewanay jahan’deeda nahi hotay.
Tajub kya agar IQBAL duniya tujh se nakhush hai
Bohat se log duniya mein pasanddeeda nahi hotay.

Hindi and urdu shayari – Allama Iqbal ki shayari – IQBAL duniya tujh se nakhush hai
Like it
[Total: 217 Average: 2.9]

दर्द में इज़ाफ़ा

और भी कर देता है दर्द में इज़ाफ़ा
तेरे होते हुए गैरों का दिलासा देना

हिंदी और उर्दू शायरी – अल्लम इक़बाल शायरी – दर्द में इज़ाफ़ा

 

Dard mein Izaafa

Or bhi kar daita hai Dard mein Izaafa
Tere hote huwe Gairoon ka Dilasa daina

Hindi and urdu shayari – Allama Iqbal ki shayari – Dard mein Izaafa
Like it
[Total: 217 Average: 2.9]

ज़ख्मो से भर दिया सीना

किसी की याद ने ज़ख्मो से भर दिया सीना
हर एक सांस पर शक है के आखरी होगी

हिंदी और उर्दू शायरी – अल्लम इक़बाल शायरी – ज़ख्मो से भर दिया सीना

 

Zakhmoon se bhar Diya Seena

Kisi Ki Yaad ne Zakhmoon se bhar Diya Seena
Har aik Saans Par Shak hai k Aakhri Hogi

Hindi and urdu shayari – Allama Iqbal ki shayari – Zakhmoon se bhar Diya Seena
Like it
[Total: 217 Average: 2.9]

आओ बातें करें और हमारे पोस्ट के बारे में हमे बताइये - Please Post the comment