उसे बारिशों ने चुरा लिया के वो बादलों का मकीन था

उसे बारिशों ने चुरा लिया 

उसे बारिशों ने चुरा लिया के वो बादलों का मकीन था
कभी मुड़ के यह भी देखा के मेरा वजूद ज़मीन था

वही एक सच था और उस के बाद तमाम तोहमतें झूट हैं
मेरे दिल को पूरा यक़ीन है वो मुबात्तों का आमीन था

उसे शौक़ था के किसी जज़ीरे पे उस के नाम का फूल हो
मुझे प्यार करना सीखा गया मेरा दोस्त कितना ज़हीन था

तुझे किस तरह खबर हुई के मेरी हयात संवर गई 
ज़रा अपने दिल से तो पूछ के यह गुमान था के यक़ीन था 

कभी साहिलों पे चलोगे तो तुम्हे सिप्पियां ही बताएँगी
मेरी आँख में जो सिमट गया वही अश्क सब से हसीं था

हिंदी और उर्दू  शायरी – उसे बारिशों ने चुरा लिया के वो बदिलों का मकीन था – बारिश शायरी

 

Usse Barrishon Ne Chura Liya

Usse barrishon ne chura liya ke wo baadloo ka makeen tha
kabhi mud ke yeh bhi dekha kw mera wajood zameen tha

wahi ek sach tha aur us ke baad tamam tohmatein jhoot hein
Mere dil ko pura yaqeen hai wo mubatton ka ameen tha

Usay shouq tha ke kisi jazeeray pe us ke naam ka phool ho
Mjhy pyar krna sikha gaya mera dost kitna zaheen tha

Tujhe kis tarah khabar hui ke meri hayat sanwar gaye?
Zara apne dil se to pooch ke yeh gumaan tha ke yaqeen tha?

kabhi sahilon pe chaloge to tumhe sippiyan hi btayain gi
meri aankh main jo simat gya wohi ashk sab se haseen tha

Hindi and urdu Shayari – usse barrishon ne chura liya ke wo baadloo ka makeen tha – Rain shayari
Like it
[Total: 12 Average: 2.6]

आओ बातें करें और हमारे पोस्ट के बारे में हमे बताइये - Please Post the comment