फ़राज़ और मोहसिन नक़वीARI
Posted in Public Post Shayar and Poet Shayari Two Line Shayari

फ़राज़ और मोहसिन नक़वी की खूबसूरत उर्दू शायरी

  तन्हाई और महफ़िल – फ़राज़ तन्हाई में जो चूमता है मेरे नाम के हरूफ फ़राज़ महफ़िल में  वो शख्स मेरी तरफ देखता भी नहीं…

Continue Reading...
Yeh shaam tere naam
Posted in Public Post Shayari

यह उदास शाम और तेरी जुदाई – यह शाम तेरे नाम शायरी

वो रोज़ देखता है डूबते हुए सूरज को “फ़राज़ “ काश मैं भी किसी शाम का मँज़र होता…!!! शाम-ऐ-तन्हाई शाम से है मुझ को सुबह-ऐ-ग़म…

Continue Reading...
Posted in Public Post Shayari

ऐ “हमदम” छोड़ वो तेरे मुक़द्दर में नही

ऐ “हमदम” छोड़ वो तेरे मुक़द्दर में नही  बैठे बैठे किसी की यादों में खो जाना अब ज़रूरी तो नही वो बेवफा है ये बताना…

Continue Reading...
Posted in Public Post Shayari

छड़ दूँ सजना तकना तेरिया राहां नू – पंजाबी शायरी

रुक लेंन दे इन्हा सॉहा नू छड़ दूँ सजना तकना तेरिया राहां नू एक बार रुक लेंन दे इन्हा सॉहा नू punjabi urdu and hindi…

Continue Reading...