थामी है कलाई अब न छुटेगी मुझसे – चूड़ियाँ

यादों का इक झोंखा

यादों का इक झोंखा आया मुद्द्तों बाद
पहले इतना रोये नहीं जितना रोये बरसों बाद

लम्हां लम्हां गुजरा तो  हमे अहसास हुआ
पत्थर फैंके बरसों पहले , शीशे टूटे बरसों बाद

दस्तक ही उमीद लगाये कब से बैठे हैं हम
कल का वादा करने वाले , मिलने आए बरसों बाद

Shayari , शायरी , Yaad and Mohabat ki Shayari – Yaadon Ka Ik Jhonka Aya
Like it
[Total: 597 Average: 3]

गुजरे हुए वक़्त की यादें

सजा बन जाती है गुजरे हुए वक़्त की यादें
न जाने क्यों छोड़ जाने के लिए मोहबत करते है लोग

Shayari , शायरी , Yaad and Ghamgeen ki Shayari – Saza Ban Jati Hain Guzre
Like it
[Total: 597 Average: 3]

टूटी थी चूड़ियाँ

थामी है कलाई अब न छुटेगी मुझसे
टूटी थी चूड़ियाँ , टूटे अब मेरी बला से

Shayari , शायरी , Yaad and Ghamgeen ki Shayari , commitment shayari – Thami hai kalaai un ki ab na
Like it
[Total: 597 Average: 3]

तुझे सोचना

कोई और काम दे दो मुझे अब तुम
यह क्या तुझे सोचना और सोचते ही रहना

Shayari , शायरी , Yaad and Ghamgeen ki Shayari – Yeh Kya Tujhe Sochna Aur Sochtey Hi Rehna
Like it
[Total: 597 Average: 3]