धुआं जब मेरे होंटों से निकल कर तेरा अक्स बनाता है….

धुआं जब मेरे होंटों से निकल कर तेरा अक्स बनाता है….

मैं सिगरेट को हथेली पर
उलट कर खाली करता हूँ

फिर उस में डाल कर यादें
तुम्हारी खूब मलता हूँ

ज़रा सा ग़म मिलाता हूँ
हथेली को घूमता हूँ

बसा कर तुझ को सांसो में
में फिर सिगरेट बनता हूँ

लगा कर अपने होंटों से
मोहब्बत से जलाता हूँ

तुझे सुलगा के सिगरेट में
मैं तेरे कश लगाता हूँ

धुआं जब मेरे होंटों से
निकल कर रक़्स करता है

मेरे चारों तरफ कमरे में
तेरा अक्स बनता है

मैं उस से बात करता हूँ
वो मुझ से बात करता है

यह लम्हा बात करने का बड़ा
अनमोल होता है

तेरी यादें तेरी बातें
बड़ा माहोल होता है …!!!!

उर्दू  और   हिंदी  शायरी  – फ़राज़ की शायरी – धुआं जब मेरे होंटों से निकल कर तेरा अक्स बनता है – सिगरेट की शायरी


Dhuaan Jab Mere Honton Se Nikal Kar Tera Aks Banta Hai…

Main Cigarette Ko Hatheli Par
Ulat Kar Khali Karta Hoon

Phir Us Mein Daal Kr Yaadein
Tumhari Khoob Malta Hoon

Zara Sa Gham Milata Hoon
Hatheli Ko Ghumata Hoon

Basa Kar Tujh Ko Saanson Mein
Mein Phir Cigrette Banata Hoon

Laga Kar Apne Honton Se
Mohabbat Se Jalata Hoon

Tuje Sulgaa Ke Cigrette Mein
Mein Tere Kash Lagata Hoon

Dhuaan Jab Mere Honton Se
Nikal Kar Raqs Karta Hai

Mere Chaaron Taraf Kamre Mein
Tera Aks Banta Hai

Main Us Se Baat Karta Hoon
Wo Mujh Se Baat Karta Hai

Yeh Lamha Baat Karne Ka Bada
Anmol Hota Hai

Teri Yaden Teri Batain
Bada Mahol Hota Hai…!!!!

Hindi and urdu Shayari – Faraz ki Shayari – Hindi and urdu Shayari – Faraz ki Shayari – Gham-ae-Hayaat Ka Jhagra Mita Raha Hai Koi
Like it
[Total: 43 Average: 2.8]

आओ बातें करें और हमारे पोस्ट के बारे में हमे बताइये - Please Post the comment