दोस्तों में खुलूस न ढूँढो , वरना तुम दोस्त को खो दोगे – दोस्ती की शायरी

दोस्तों में खुलूस न ढूँढो , वरना तुम दोस्त को खो दोगे – दोस्ती की शायरी

मेरा इक शौक था

बेरुखी के तीर खाना भी मेरा इक शौक था
दोस्तों को आज़माना भी मेरा इक शौक था
दर्द उन का अपने सीने से लगाया इस लिए
के चोट खा कर मुस्कराना भी मेरा इक शौक था

उर्दू  और   हिंदी  शायरी  – दोस्ती की शायरी – दोस्तों को आज़माना भी मेरा इक शौक था

 

Mera Ek Shauk Tha

Berukhe Ke Teer Khana Be Mera Ik Shauk Tha
Dostoon Ko Azmana Be Mera Ik Shauk Tha
Dard Un Ka Apnay Senay Se Lagaya Is Leay
K Chot Kha Kar Muskrana Be Mera Ik Shauk Tha

Hindi and urdu Shayari – dosti ki Shayari – Dostoon Ko Azmana Be Mera Ik Shauk Tha
Like it
[Total: 1076 Average: 3]

दोस्तों में खुलूस न ढूँढो

दोस्तों में खुलूस न ढूँढो , वरना तुम दोस्त को खो दोगे
या ग़नीमत है साथ है इस ज़माने में और क्या लोगे ….

उर्दू और हिंदी शायरी  – दोस्ती की शायरी – दोस्तों में खुलूस न ढूँढो

 

Doston Mein Khuloos Na Dhundo

Doston mein khuloos na dhundo, warna tum dost ko khodoge,
Ya ghanimath hai saath hai is zamane me aur kya loge….

Hindi and urdu Shayari – dosti ki Shayari – Doston me khuloos na dhundo
Like it
[Total: 1076 Average: 3]

हंसी आप की

अज़ीज़ है मुझे हर शह से दोस्ती आप की
उतर गयी मेरे दिल में  सादगी आप की
कभी पड़े न उदासी का आप पर साया
और आंसुओं में न बदले कभी हंसी आप की

उर्दू  और   हिंदी  शायरी  – दोस्ती की शायरी – अज़ीज़ है मुझे हर शेय से दोस्ती आप की

 

Hansi Aap ki

Aziz hai Mujhe har shey se Dosti Aap ki
Utar gayi Mere Dil mai Saadgi Aap ki
Kabhi pare na Udaasi ka Aap per Saaya
Aur Aansu’on mai na Badle kabhi Hansi Aap ki

Hindi and urdu Shayari – dosti ki Shayari – Aziz hai Mujhe har shey se Dosti Aap ki
Like it
[Total: 1076 Average: 3]

मेरे दोस्त

यह और बात के दुश्मन हुए हैं आज मगर
कल तक थे मेरे दोस्त उन्हे बुरा न कहो

उर्दू  और   हिंदी  शायरी  – दोस्ती की शायरी – यह और बात के दुश्मन हुए हैं आज मगर

 

Mere Dost

Yeh aur baat ke dusman huey hain ajj magar
kal tak they merey dost unhay bura na kaho

Hindi and urdu Shayari – dosti ki Shayari – Yeh aur baat ke dusman huey hain ajj magar
Like it
[Total: 1076 Average: 3]

1 thought on “दोस्तों में खुलूस न ढूँढो , वरना तुम दोस्त को खो दोगे – दोस्ती की शायरी

आओ बातें करें और हमारे पोस्ट के बारे में हमे बताइये - Please Post the comment