दुःख दे कर सवाल करते हो – उर्दू शायरी

 

दुःख दे कर सवाल करते हो ,
तुम भी ग़ालिब ! कमाल करते हो ..

Dukh Day Kar Sawaal Kartay ho,
Tum Bhe GHAALiB ! Kamaal Kartay ho..

Hindi and Urdu shayari – (उर्दू शायरी ) Dukh Day Kar Sawaal Kartay ho – Mirza Ghalib

यह हम ही जानते हैं जुदाई के मोड़ पर ,
इस दिल का जो भी हाल तुझे देख कर हुआ ..

Yeah hum hi jantey hain judaai ke mod par,
Is dil ka jo bhi haal tujhe dekh kar hua..

Hindi and Urdu shayari – (उर्दू शायरी ) Yeah hum hi jantey hain judaai ke mod par 

क्या ज़रूरी है के हम हार के जीतें, ताबिश
इश्क़ का खेल बराबर भी तो हो सकता है…

Kia Zaroori Hai Ke Hum Haar Ke Jeetien Tabish
Ishq Ka Khel Baraber Bhi To Ho Sakta Hai…

Hindi and Urdu shayari – (उर्दू शायरी ) Yeah hum hi jantey hain judaai ke mod par 

तुम आज हँसते हो हँस लो मुझ पर ये आजमाइश न बार बार होगी
मैं जनता हूँ मुझे खबर है के कल फ़िज़ा खुशगवार होगी .

Tum Aj Hanste Ho Hans Lo Mujh Par Ye Ajamaish Naa Bar Bar Hogi
Main Janta Hun Mujhe Khabar Hai Ki Kal Faza Khushgawar Hogi.

Hindi and Urdu shayari – (उर्दू शायरी ) Tum Aj Hanste Ho Hans Lo Mujh

लगा न दिल को क्या सूना नहीं तूने ,
जो कुछ के मीर का इस आशिक़ी ने हाल किया ..

Laga na dil ko kya sunaa nahin tu ne,
Jo kuch ke Meer ka is aashqi ne haal kiya..

Hindi and Urdu shayari – (उर्दू शायरी ) Laga na dil ko kya sunaa nahin tu ne

इश्क़ माशूक़ इश्क़ आशिक़ है ,
यानी अपना ही मुबतला है इश्क़ .
इश्क़ है तर्ज़ -ओ -तौर इश्क़ के ताईं ,
कहीं बंदा  कहीं खुदा है इश्क़ .


Ishq maashuq ishq aashiq hai,

Yaani apna hi mubtala hai ishq.
Ishq hai tarz-o-taur ishq ke taeen,
Kahin banda kahin Khuda hai ishq.

Hindi and Urdu shayari – (उर्दू शायरी ) Ishq maashuq ishq aashiq hai

बस के दुस्बार है हर काम का आसान होना ,
आदमी को भी मुयस्सर नहीं इंसान होना ,

 मेरे कत्ल के बाद उसने की जफ़ा से तौबा ,
हाय उस जोर पशेमान का पशेमान होना ,

है उस चारगिरह कपड़े की क़िस्मत ‘ग़ालिब ,
जिस की क़िस्मत में  हो आशिक़ का गिरेवान होना ..!!

(Mirza Ghalib)​ – मिर्ज़ा ग़ालिब


Bus ke Dushwaar hai har kaam ka Asaan hona,

Admi ko bhi muyassar nahin insaaN hona,

ki Mere Qatal ke baad Usne jafa se Tauba,
Haye Us zoad pasheman ka pasheman hona,

Haif us chaar girah kaprhe ki Qismat ‘GHalib,
Jis ki Qismat main ho Ashiq ka GarebaN hona..!!

(Mirza Ghalib)​ – मिर्ज़ा ग़ालिब

Hindi and Urdu shayari – (उर्दू शायरी ) Bus ke Dushwaar hai har kaam ka Asaan hona – (Mirza Ghalib)​ – मिर्ज़ा ग़ालिब

 


जो काम आसान समझ रहे हो वो काम मुमकिन नहीं रहेगा
वफ़ा का काग़ज़ तो भीग जाएगा बदगुमानी की बारिशों में
खतों की बातें तो ख्वाब होंगी पयाम मुमकिन नहीं रहेगा
में जानती हूँ मुझे यक़ीन है अगर कभी तू मुझे भुला दे
तो तेरी आँखो में रौशनी का क़याम मुमकिन नहीं रहेगा

Jo Kaam Aasaan Samajh Rahay Ho Wo Kaam Mumkin Nahi Rahay Ga
Wafaa Ka Kaaghaz Tou Bheeg Jaye Ga Badgumaani Ki Baarishon Mein
Khaton Ki Baatain Tou Khwaab Hon Gi Payaam Mumkin Nahi Rahay Ga
Mein Jaanti Hun Mujhe Yaqeen Hai Agar Kabhi TU Mujhe Bhula De
Tou Teri Aanhkon Mein Roshni Ka Qayaam Mumkin Nahi Rahay Ga

Hindi and Urdu shayari – (उर्दू शायरी ) Jo Kaam Aasaan Samajh Rahay Ho

 

 

 

आओ बातें करें और हमारे पोस्ट के बारे में हमे बताइये - Please Post the comment