हम ने एक इंसान को चाहा और गुनहगार हो गए – Hindi Shayari

Ghunegar

 

 

मैं अश्क़ हूँ

मैं अश्क़ हूँ मेरी आँख तुम हो
मैं दिल हूँ मेरी धडकन तुम हो
मैं जिस्म हूँ मेरी रूह तुम हो
मैं जिंदा हूँ मेरी ज़िन्दगी तुम हो
मैं साया हूँ मेरी हक़ीक़त तुम हो
मैं आइना हूँ मेरी सूरत तुम हो
मैं सोच हूँ मेरी बात तुम हो
मैं मुकमल हूँ जब मेरे साथ तुम हो
मैं तुम मैं हूँ अब तुम ही हो , अब तुम ही हो

हिंदी और उर्दू शायरी – अश्क़ शायरी – मैं अश्क़ हूँ मेरी आँख तुम हो

 

Main ashq Hoon

Main ashq Hoon Meri ankh Tum Ho
Main Dil Hoon Meri Dharkan Tum Ho
Main jism Hoon Meri Rooh Tum Ho
Main Jinda Hoon Meri Zindagi Tum Ho
Main saya Hoon Meri Haqiqat Tum Ho
Main Aena Hun Meri Surat Tum Ho
Main soch Hoon Meri Baat Tum Ho
Main Mukmal hoon Jab Mere Sath Tum Ho
Main Tum main hoon Ab Tum hi ho , Ab Tum Hi Ho.

Urdu and Hindi Shayari – Ashq Shayari– Main ashq Hoon Meri ankh Tum Ho
Like it
[Total: 512 Average: 3.2]

वादा

वादा निभाना हमारी आदत हो गयी
हमें भूलने की उनकी आदत है
उन्हें याद करने की हमारी आदत हो गयी

हिंदी और उर्दू शायरी – वादा शायरी – उन्हें याद करने की हमारी आदत हो गयी

 

Wada

Wada Nibhana Humari Aadat Ho Gayi
Humein Bhulane Ki Unki Aadat Hai
Unhe Yaad Karne Ki Humari Aadat Ho Gayi

Urdu and Hindi Shayari – Wada Shayari– Unhe Yaad Karne Ki Humari Aadat Ho Gayi
Like it
[Total: 512 Average: 3.2]

गुनहगार

लोग पत्थर के बूतों को पूज कर भी मासूम रहे “फ़राज़”
हम ने एक इंसान को चाहा और गुनहगार हो गए

हिंदी और उर्दू शायरी – गुनहगार “फ़राज़” शायरी – हम ने एक इंसान को चाहा

 

Ghunegar

Log Pathar Ke Bhuton Ko Poojh Ker Bhi Masoom Rahay “Faraz”
Hum Ne Ek Insan Ko Chaaha Aur Ghunegar Ho Gaye

Urdu and Hindi Shayari – Ghunegar “Faraz” Shayari– Hum Ne Ek Insan Ko Chaaha
Like it
[Total: 512 Average: 3.2]

तन्हाई

तन्हाई मेरे दिल में समाती चली गयी
किस्मत भी अपना खेल दिखाती चली गयी
महकती फ़िज़ा की खुशबू में जो देखा तुम को
बस याद उनकी आई और रुलाती चली गयी

हिंदी और उर्दू शायरी – तन्हाई  शायरी – महकती फ़िज़ा की खुशबू में
Like it
[Total: 512 Average: 3.2]

Tanhayi

Tanhayi mere dil mein samati chali gayi
Kismat bhi apna khel dikhati chali gayi
Mehkti fiza ki khusbu me jo deka tum ko
Bas yaad unki aayi aur rulati chali gayi

Urdu and Hindi Shayari – Tanhayi Shayari– Mehkti fiza ki khusbu me

 

1 thought on “हम ने एक इंसान को चाहा और गुनहगार हो गए – Hindi Shayari

आओ बातें करें और हमारे पोस्ट के बारे में हमे बताइये - Please Post the comment