Shayari , Funny Pictures Blog, Funny Jokes, Quotes and SMS

 

Urdu Shayari ,Punjabi Shayari and Hindi Shayari,शायरी, SMS , Quote , funny Joke with Images, Hindi shayari and Picture SMS, Shayari on Mohabbat,Dard ,Love, dosti,Husn and ishq , Shayari Hindi friendship shayari,Love and Friendship Shayari.

मोहबत की शायरी , हुस्न की शायरी , वफ़ा की शायरी , दोस्ती की शायरी , दर्द की शायरी , इश्क़ की शायरी , तारीफ शायरी , गम की शायरी


 

हर बात का कोई मतलब नहीं होता
हर शह का कोई जवाब नहीं होता
इश्क़ तिजारत है खुदा की, हर तिजारत का कोई खरीददार नहीं होता
मकान तो बनते है रोज़, हर मकान को घर नसीब नहीं होता

urdu and hindi shayari- khudaa ki ibbadat shayari – har baat ka koi matlab nahi hota

ऐ दुश्मन-ऐ-तम्मना इसका जवाब तो दे
यदि हाँ बने तो क्या हो , मरता हूँ जिस नहीं पर

urdu and hindi shayari- dil ki shayari – Ae dusman-ae-tamana

दिल के आईने में है तस्बीरे-ऐ-यार
जब दिल किया गर्दन झुका ली

urdu and hindi shayari- dil ki shayari – dil Aiene mein hai tasbeer-ae-yaar

दिल दे इस मिज़ाज़ का परबर दिगार दे
जो रंज की घड़ी भी ख़ुशी से गुजार दे

urdu and hindi shayari –  dil ki shayari – dil de is mizaaz ka

वफ़ा ,बेवफा हमे इलम नहीं इन अफ़्सानो का
यह तो वो जाने जो तालीम -ऐ -मोहबत रखते है
मोहबत तो नाम है खुदा की इब्बादत का
बरना कौन लूटा दे भरी तिजारत को

urdu and hindi shayari , ishq ibbaadat shayari – wafa,bewafa hume ilam hai in afsano ka
By- Ravi Minhas

अब तो दर्द सहने की इतनी आदत हो गयी है ,
के जब दर्द नहीं मिलता .. तो बहुत दर्द होता है . .​

urdu and hindi shayari , Dard ki shayari – Ab To Dard Sehne ki Itni Aadat ho Gayi Hai

वफ़ा के ज़िक्र में ग़ालिब मुझे गुमाँ हुआ
वो दर्द इश्क़ वफाओं को खो चूका होगा ,

जो मेरे साथ मोहब्बत में हद -ऐ -जूनून तक था
वो खुद को वक़्त के पानी से धो चूका होगा ,

मेरी आवाज़ को जो साज़ कहा करता था
मेरी आहोँ को याद कर के सो चूका होगा ,

वो मेरा प्यार , तलब और मेरा चैन -ओ -क़रार
जफ़ा की हद में ज़माने का हो चूका होगा ,

तुम उसकी राह न देखो वो ग़ैर था साक़ी
भुला दो उसको वो ग़ैरों का हो चूका होगा !

Urdu and hindi shayari – Mirza Galib ki shayari – wafa ke zikar mein ghalib mujhe gumaan hua

ऐ दिसम्बर मेरी उम्र -ऐ – रवां में कभी भी नही न आना ..
तेरी  धुंध में कोई बिछड़ा हुआ बहुत याद आता है ..

urdu and hindi shayari judai ki shayari – ae december meri umar-ae-rawan

तुम से मुमकिन हो तो रोक दो साँसे मेरी ,
दिल जो धड़केगा तो याद तो तुम आओगे ही …​

urdu and hindi shayari yaad ki shayari – Tum se mumkin ho to rok do saanse meri

खफा ही करदे मगर बात तो कर
मुझे तकलीफ देता है तेरा यह खामोश रहना

urdu and hindi shayari khamoshi ki shayari – khafa hi karde magar baat to kar

इजाजत हो तो कुछ अरज़ करूँ ..?
खेल चुक्के हो तो दिल वापस कर दो …!!

urdu and hindi shayari dil ki shayari -Ijazat Ho To Kuch Arz karon

तुम , तुम और सिर्फ तुम ,
लो खत्म हुई यह दास्ताँ दिल की ..

urdu and hindi shayari dil ki shayari -Tum, Tum aur sirf Tum

मिले तो हज़ारों लोग थे ज़िन्दगी मैं ,
वो सब से अलग था जो क़िस्मत मैं नहीं था ..

urdu and hindi shayari kismat ki shayari -Tum, Tum aur sirf Tum

मुझको दुश्मन के इरादो पर भी प्यार आता है
तेरी उल्फ़त ने मोहबत मेरी आदत कर दी

urdu and hindi shayari mohabat ki shayari – mujhe dhusman ke irado par bhi pyar

मौत का एक दिन तो मोईन है
नीद क्यों रात भर नहीं आती
हम यहाँ है जहाँ से हमको भी कुछ हमारी खबर नहीं

urdu and hindi shayari – maut ka ek din to moin hai

हम तस्लीम करते हैं
हमें फुर्सत नहीं मिलती .
मगर
ये भी ज़रा सोचो
तुम्हें जब याद करते हैं
ज़माना भूल जाते हैं .

urdu and hindi shayari , yaad ki shayari – Zamana Bhool Jatey Hain

मेरे लिए तो वो खंजर भी फूल बन के उठा ,
ज़बान सख्त थी , लहजा मगर कड़क न था .

urdu and hindi shayari , – Mere liye to wo khanjar bhi

ग़म इस कदर भरा है के में घबरा के पी गया ,
इस दिल की बेबसी पे तरस खा के पी गया ,
ठुकरा रहा था मुझको बड़ी देर से जमाना ,
मैं आज सारे ज़माने को ठुकरा के पी गया

urdu and hindi shayari , Gam bebasi ki shayari – Gham is kadar barhey ke mein ghabra ke pee gaya-Sahir Ludhianvi

चंद कलियाँ निशात की चुन कर
मुद्दतों महव-ऐ-यास रहता हूँ
तेरा मिलना खुशी की बात सही
तुझ से मिल कर भी उदास रहता हूँ

urdu and hindi shayari , Gam bebasi ki shayari – chand kaliyaan nishaat ki chun kar- Sahir Ludhianvi

प्यार सभी को जीना सीखा देता है
वफ़ा के नाम पे मारना सीखा देता है
प्यार नहीं किया तो करके देख ले
ज़ालिम हर दर्द सहना सीखा देता है

urdu and hindi shayari , Mohabbat ke dard ki shayari – Pyar Sabhi Ko Jeena Sikha Deta Hai

तलब मौत की करना गुनाह -ऐ-खुदा है
मरने का शोंक है तो आओ तुम्हें इश्क़-ऐ तालिम दूँ

urdu and hindi shayari , Mohabbat ke dard ki shayari – Talab Mout Ki Karna Gunah_ae_khudaa Hai

अभी कुछ भी नहीं बदला ,
मौसम -ऐ -बहार आज भी वही है
अभी तक सुरमयी शामें हमारी बीरान महफ़िल की रौनक है ,
अभी तक मेरी सांसों में तुम्हारी सांसों की गर्मी रक़्स करती है

urdu and hindi shayari , Milan aur judai ki shayari – meri sanson mein tumhari sanson ki khushbu

मैं तेरा मुंतज़िर हूँ मुस्कुरा  के मिल
कब तक तुझे तलाश करूँ अब आ के मिल
यूं  मिल के फिर जुदाई का लम्हा न आ सके
जो दरमियाँ में है सभी कुछ मिटा के मिल

urdu and hindi shayari , Milan aur judai ki shayari – Main Tera Muntazir Hoon Mujhy Muskura K Mil

हम को अपनी समझ नहीं आती ,
हमें ज़माना क्या  खाक समझेगा

urdu and hindi shayari , dard-ae-dil ki shayari – Hum ko Apni Samjh Nahi Ati

जान से मार दे मुझे लेकिन
छोड़ जाने का मुझ पे ज़ुलम न कर

urdu and hindi shayari , Judai ki shayari – Jaan se maar de mujhe lekin

चला गया है जो अब उसका मलाल क्या करना
अब उसकी याद में जीना मुहाल क्या करना
मुझे पता है की वो बेवफा न मानेगा
वही जवाब मिलेगा , सवाल क्या करना
तू दर्द-ऐ-इश्क़ दे गया और मेरे प्यार को भुला बैठा
वो बेवफा था अब उसका ख्याल क्या करना
उसे भूल जाना ही अब तेरी तक़दीर है
दिल-ऐ -तबाह को अब ज़माने की खुशियों से क्या करना

urdu and hindi shayari , dard-ae-dil ki shayari – Bichar gaya hai jo ab us ka malaal kya karna

तू भी बेजार है ज़माने से फ़राज़
वो भी न खुश है वफ़ा से तेरी

urdu and hindi shayari , Faraz ki shayari – Tu bhi bezar hai zamaanay se Faraz

हमने मोहबत के नशे में आकर उसे खुदा बना डाला
होश तब आया जब उसने कहा की खुदा एक का नहीं होता

ishq , Mohhabat Shayari , शायरी  Hum Ne Mohbaton Ke Nashe

अंदाज़ अपने आईने में देखते है वो
और यह भी देखते है की कोई देखता न हो

Aiena Shayari , शायरी , Andaz apne aiene mein dekhte hai wo

जुल्फ लहराये तो आँचल में छुपा लेती हो
होंठ थाअर्ररे तो दातों में दबा लेती हो
जो कभी खुल के ना बरसी वो घटा लगती हो

Bollywood Shayari – julf lehraye to anchal mein chupa leti ho – (Film – Bahu Beti)

सब में शामिल हो मगर सब से जुदा लगती हो
सिर्फ हम से नहीं खुद से भी खफा लगती हो
जो किसी दर पे ना ठहरे वो हवा लगती हो

Bollywood Shayari – sab mein shamil ho – (Film – Bahu Beti)

सख्त काफ़िर था जिस ने पहले “मीर”
मज़हब -इ -इश्क़ इख्तियार किया

kaafir Shayari , शायरी ,Mazhab-e-ishq ikhteyaar kiya

इतनी सी थी अपनी इश्क़ की दास्ताँ,बस खत्म हो गई कहानी
सोचा था सुनने वाले जागते रहेंगे ,हम ही कहते कहते सो जायेगें 

Dastan ishq Shayari , शायरी ,itni si thi apni ishq ki dastan

तुम्हारी इक निगाह से कतल होते है लोग
एक नज़र हम को भी देख लो तुम बिन जिंदगी अच्छी नहीं लगती

Qatal Shayari , शायरी ,Tumhari ek nigaah se qatal hotay haiN log FARAZ

सुना है आज कल वो परेशान रहती है
उससे कहना बे -फ़िक्र मैं भी नहीं हूँ

सुना है वो गुमसुम रहती है
उससे कहना हाज़िर जहाँ मैं भी नहीं हूँ

सुना है वो रातों को जागा करती है
उससे कहना सोते हम भी नहीं है

सुना है वो चुप चुप के रोती है
उससे कहना हँसता मैं भी नहीं हूँ

सुना है वो मुझे याद बुहत करती है
उससे कहना भूला मैं भी नहीं हूँ

YAAD Shayari , शायरी , Suna hai aaj kal woo preshan rehti hai

दिल की रग रग निचोड़ लेता है
इश्क़ में यह बड़ी मुसीबत है

Shayari , शायरी , ishq , dil  Shayari – dil ki rag rag nichod leta hai

तबदीली जब भी आती है मौसम की अदाओं में
किसी का यूं बदल जाना बहुत याद आता है 

Shayari , शायरी , yaad,mohabat,gam,udasi,husn Ghamgeen Shayari – Tabdeli Jab Bi Aati Hai

पागलपन की सारी लकीरे मेरे हाथ में क्यों
जिस को चाहूँ में ही चाहूँ , में ही चाहूँ क्यों

Shayari , शायरी , yaad,mohabat,gam,udasi,husn Ghamgeen Shayari – Pagalpan ki sari lakeerein

ख़्यालो में भटक जाना , तेरी यादों में खो जाना
बहुत ही महंगा पड़ा है मुझको , सितमगर तेरा हो जाना

Shayari , शायरी , yaad,mohabat,gam,udasi,husn Ghamgeen Shayari – Khayalon Mein Bhtak Jana

जो उसकी चाह में गुजरी वो जिंदगी थी हमारी
उसके बाद तो गुजारा है जिंदगी ने मुझे

Shayari , शायरी , yaad,mohabat,gam,udasi,husn Ghamgeen Shayari – Jo uski chaah me guzri

करता तो है वो मुझे याद चाहत से मगर
होता है यह कमाल बड़ी मुद्द्तों के बाद

Shayari , शायरी , yaad,mohabat,gam,udasi,husn Ghamgeen Shayari- karta to he wo yaad muje chahat se magar

हम नींद के शौकीन ज्यादा तो नहीं लेकिन
तुझे ख़्वाब में न देखे तो गुजर नहीं होती

Shayari , शायरी , Yaad and Ghamgeen Shayari – Ham Neend ke Shouqeen Zyada to Nahi Leken

मेरी खातिर मरने का होसला भी रखते हो
और यह भी कहते हो की जमाना क्या कहेगा
ऐ सितमगर छोड़ दे इश्क़-ऐ-रिबायत तुम्हे खुदा की कसम

Shayari , शायरी , yaad,mohabat,gam,udasi,husn Ghamgeen Shayari – chod de ishq-ae-ribayat tunhe khudaa ki kasam

हमसफ़र बदल जाते है
रास्ते बदल जाते है
मंजिले बदल जाती है
क्यों नहीं बदलते दिल
जब तक़दीरें बदल जाती है

Shayari , शायरी , yaad,mohabat,gam,udasi,husn Ghamgeen Shayari – Raaste badal jaate hain

उसने माँगा भी तो क्या हमसे जुदाई मांगी
एक हम थे की हमे इंकार न करना आया

Shayari , शायरी , yaad,mohabat,gam,udasi,husm Ghamgeen Shayari – usne manga bhi to kya

कभी कोई पलट कर बापिस नहीं आता
सिबाये मौसम के
काश के तुम भी मौसम होते

Shayari , शायरी , yaad,mohabat,gam,udasi,husn Ghamgeen Shayari – kabhi koi Palat ke

सांसों का टूट जाना तो आम सी बात है
फलक जब मोहबत रूठ जाये मौत उसको कहते है

Shayari , शायरी , yaad,mohabat,gam,udasi,husm Ghamgeen Shayari – Saanson Ka Toot Jana

तुझे याद कर लिया है आयत की तरह
अब तेरा जिकर होगा ईबादत की तरह
कायम तू हो गई है रिबायत की तरह
मरने तलक रहगी तू आदत की तरह

Bollywood Shayari – kayam to ho gaye hai ribayat ki tarah – (Film – Bajirao Mastani)

खैर,  तेरे जनाजे पे सरीक न होंगे
क्योंकि उस वक़्त हम भी फूलो पे सोये होंगे
मिलेंगे दोबारा फिर उसी रंग में
यह न कहना की इश्क़ दोबारा न होगा

Shayari , शायरी , Yaad and Ghamgeen Shayari – yeah na kehna ki yeh ishq dobara na hoga

कीमत अदा की थी हमने जुदा होने की
वो क़र्ज़ हम आज तक अदा कर रहे हैं
मुमकिन नहीं था उससे दूर जाना
क्या पता था वो तोहफा-ऐ-मोहबत में खुद को मांग लेगा

Shayari , शायरी , Yaad and Ghamgeen Shayari – kimat ada ki thi humne juda hone ki

मुददत हुई है इन आँखों को तबियत-ऐ-यार किये
लेकिन आज भी मंज़र यह है , जैसे कल की बात हो

Shayari ,  शायरी , Yaad and Ghamgeen Shayari – muddat hui in ankhow

पूछ मत इंतज़ार-ऐ-इन्तिहां क्या थी
वो मुस्कुराये क्या एक बार , हमने क़यामत तक उनका इंतज़ार किया

Shayari ,  शायरी , Yaad and Ghamgeen Shayari – pooch mat intizar-ae-intihan 

अरमान तो बहुत थे तुमसे मिले के बाद
पता न था की लोग मोहबत पे यकीं नहीं करते

Shayari ,  शायरी , Yaad and Ghamgeen Shayari – amramn to bahut the

क्यों न करू में दुआ तुझे पाने की
खुदा की इबादत में सिक्के नहीं लगते

Shayari ,  शायरी , Yaad and Ghamgeen Shayari – khudaa ki ibadat

आज फिर तेरी यादों के झरोखे में चले गए
कुछ न था सिबाये उदासी के चंद लम्हों के
कभी बिराने भी बहार-ऐ-मदहोश लगते थे
आज रौणक-ऐ -महफ़िल भी उदास लगती है

Shayari ,  शायरी , Yaad and Ghamgeen Shayari – aj phir teri yadoon ke jarokhe

क्यों भला करू में नफरत आज तुमसे
जब पता है बिछड़ तो जाना है
यह तो दस्तूर है इस दुनिया का
अकेले आए थे अकेले जाना है

Shayari ,  शायरी , Yaad and Ghamgeen Shayari – akele ayee the akele jana hai

आज फिर दिल है कुछ उदास उदास
जाने क्यों एक मायूसी सी छायी है
आज फिर पलकों पे पानी है
भीड़ में हूँ फिर क्यों तन्हाई है

Shayari ,  शायरी , Yaad and Ghamgeen Shayari – Aaj Phir Dil Hai Kuchh Udaas Udaas

मोहबत मिल नहीं सकती मुझे मालूम है,  शाहिद 
मगर खामोश रहता हूँ , मोहबत कर जो बैठा हूँ

Shayari ,  शायरी , Yaad and Ghamgeen Shayari – mohabat,dard

यह पर्दादारी है क्या तमाशा
मुझ ही में रह कर मुझी से पर्दा
तबाह करना अगर है मुझको
नकाब उठा तबाह कर

Shayari ,  शायरी , Yaad and Ghamgeen Shayari – pardadari , husn

बरसो बाद मिला वो तो , गले से लिपट कर रो दिया
जाते हुए जिसने कहा था के तुम जैसे बहुत मिलेंगे

 Shayari ,  शायरी , Yaad and Ghamgeen Shayari – Barson baad mila wo

यहाँ गमगीन न होना, कोई जो भूल जाये तो
यहाँ रब को भी सब , वक़्त-ऐ जरूरत याद करते है

Shayari ,  शायरी , Yaad and Ghamgeen Shayari – Yahan Ghamgeen na hona

कैसे भुला दूँ में वो चाहतो का मौसम
जब मेरी सांसों से सुलगती थी सांसे तेरी

Shayari ,  शायरी , Yaad and Ghamgeen Shayari – Kaise Bhula Du Mein Woh

उसी की रज़ा पे छोड़ दिया

सजा पे छोड़ दिया , जज़ा पे छोड़ दिया
हर एक काम को हमने खुद पे छोड़ दिया
वो हमे याद रखे या फिर भुला दे
उसी का काम था , उसी की रज़ा पे छोड़ दिया

Punjabi and Urdu Shayari , Shayari , शायरी , Yaad Shayari

मोहबत में हिसाब कैसा

मोहबत में शुमार कैसा
यकीं कैसा , गुमान कैसा
अरूज़ कैसा , ज़्वाल कैसा
सवाल कैसा , जवाब कैसा
मोहबत तो मोहबत है
मोहबत में हिसाब कैसा

Punjabi and Urdu Shayari , Shayari , शायरी , Poet: Noshi Gilani

दिल की दुनिया में छा गया कोई
ता क़यामत किसी तरह न बुझे ,आग ऐसी लगा गया कोई

दिल की दुनिया उजड़ी सी क्यों है
क्या जहाँ से चला गया कोई

वक़्त-ऐ-रुखसत गले लगा कर “दाग
हँसते हँसते रुला गया कोई

Punjabi and Urdu Shayari , Shayari , शायरी , Poet: Mir Dagh Dhelvi

यूं तो हम हिज़र में भी दीवार -ओ -दर को देखते हैं
कभी सबा को कभी नामाबर को देखते हैं
वो आये घर में हमारे खुदा की कुदरत है
कभी हम उन को कभी अपने घर को देखते हैं

Urdu and hindi shayari – Mirza Galib ki shayari – yoon to ham hijr mein diivaar-o-dar ko dekhate hain

जिस शख्स की खातिर तेरा यह हाल है, खबिर
उसने तेरे मर जाने पे रोना भी नहीं

Punjabi and Urdu Shayari , Shayari , शायरी , मोहबत की शायरी , वफ़ा की शायरी

कांटे तो नसीब में आने ही थे अपने
फूल जो हमने गुलाब चुना था

Hindi and Urdu Shayari , Shayari , शायरी , मोहबत की शायरी , वफ़ा की शायरी,फूल

यह और बात है के तू हो चुकी है गैर
पर अब भी तेरी यादों से रोसन है रातें मेरी

Shayari ,  शायरी , Yaad and Ghamgeen Shayari – Kaise Bhula Du Mein Woh

साबित हुआ की मुझसे मोहबत नहीं रही
वो शख्स मुझे देख कर नजरे चुरा गया

Shayari ,  शायरी , Yaad and Ghamgeen Shayari – Sabit hua key mujh

मेरे मरने के बाद

बाद मरने के , मेरी कब्र पर आया वो
याद आई मेरे कातिल को मेरी वफ़ा, मर जाने के बाद

Punjabi and Urdu Shayari , Shayari , शायरी , मोहबत की शायरी , वफ़ा की शायरी

गज़ब किया जो तेरे वादे पे एतबार किया
तमाम रात हमने क़यामत का इंतज़ार किया

न पूछ दिल की हक़ीक़त मगर यह कहतें है
वो बेक़रार रहे जिसने बेक़रार किया

Punjabi and Urdu Shayari , Shayari , शायरी , Poet: Mir Dagh Dhelvi

हमे तो आता है लुफ्त अब रातों को जागने में
तन्हाईं जब इश्क़ बन जाएं तो अँधेरे  भी सकून देते है

Hindi and Urdu Shayari , Shayari , शायरी , mohabbat ki Shayari , wafa ki Shayari , Tanhaiyaan

कुछ नहीं मिला बस एक सबक दे गयी मोहबत
खाक हो जाते है इंसान खाक के बने इंसान के पीछे

खाक को खाक में मिलाने का
मौत कितना अजब तरीका है

खाक होने से बचा ले कोई मेरी ऑंखें
अपने चेहरे पे लगा ले कोई मेरी ऑंखें

Hindi and Urdu Shayari , Shayari , शायरी , mohabbat ki Shayari , wafa ki Shayari , khaak (खाक)

हम अपनी रूह तेरे जिस्म में छोड़ आये है
तुझे गले से लगाना तो एक बहाना था

Hindi and Urdu Shayari , Shayari , शायरी , mohabbat ki Shayari , wafa ki Shayari , rooh (रूह)

कातिल तेरी अदाओं ने लूटा है
मुझे तेरी जफ़ाओं ने लूटा है
शौंक नहीं था मुझे मर मिटने का
मुझे तो आपकी इन्ही निगाहों ने लूटा है

Husn Shayari , Shayari,Hindi and Urdu Shayari – मोहबत की शायरी , हुस्न की शायरी

तेरे हुस्न की तारीफ मेरी शायरी के बस की नहीं….
तुझ जैसी कोई और कायनात में ही नहीं बनी….

हुस्न की तारीफ Shayari,Hindi and Urdu Shayari – मोहबत की शायरी , हुस्न की शायरी

एक नफरत ही नहीं दुनिया में दर्द का सबब
मोहबत भी इश्क़ में बड़ी तख़लीफ़ देती है

Hindi and Urdu Shayari , Shayari , शायरी , mohabbat ki Shayari , wafa ki Shayari , dard (दर्द)

वो बात बात पर देते है परिंदों की मिसाल
साफ़ साफ़ नहीं कहते मेरा शहर छोड़ दो

Hindi and Urdu Shayari , Shayari , शायरी , mohabbat ki Shayari , wafa ki Shayari , FARAZ (परिंदों)

तेरा मुस्कुराना जैसे पतझड़ में बहार हो जाये….
जो तुझे देख ले वो तेरे हुस्न में ही खो जाये….

हुस्न की तारीफ Shayari,Hindi and Urdu Shayari – मोहबत की शायरी , हुस्न की शायरी

यह जरूरी तो नहीं

यह जरूरी तो नहीं
उम्र जलवो में बसर हो
यह जरूरी तो नहीं

हर शबे-ऐ-गम की सेहर हो
यह जरूरी तो नहीं

नींद तो दर्द के बिस्तर पर भी आ जाती है
उसके आगोश में सर हो
यह जरूरी तो नहीं

आग को खेल पतंगों ने समझ रखा है
सब को अंजाम का डर हो
यह जरूरी तो नहीं

वो करता है जो मस्जिद में खुदा को सजदे
उसके सजदों में असर हो
यह जरूरी तो नहीं

सब की शाकी पे नज़र हो
यह जरूरी है मगर
सब पे शाकी की नज़र हो
यह जरूरी तो नहीं

Hindi and Urdu Shayari – Pyaar, गम , दर्द और जुदाई, बेवफा , ishq , मोहबत , यादें

न तंग कर अब जाने भी दे ऐ इश्क़
तेरी कसम अब में तेरे आगे हार गया हूँ
छोड़ दे मुझे अब इन तन्हाइयों के आगोश में
कसम तुम्हे उस परवरदिगार की

Hindi and Urdu Shayari – Yaad , Isqh , तन्हाइयों , कसम , Khudaa

यार न रखिया राज़ी

पढ़ पढ़ किताबां नाम रख लिया क़ाज़ी
हाथ बीच फड़ के तलवार तो नाम रख लिया गाजी
मक्के मदीने घूम आया तू ते नाम रल्ह लिया हज्जी
बुल्ले शाह हासिल की कीता ये तू यार न रखिया राज़ी

Punjabi Shayari and Poem – Parh parh kitaban naam rakh leya Qazi

तेरी दुआ है की हो तेरी आरज़ू पूरी
मेरी दुआ है की तेरी आरज़ू बदल जाये

Hindi and Urdu Shayari , Shayari , शायरी , mohabbat ki Shayari , wafa ki Shayari , Dua (दुआ)

Rahe Ga Ishq Tera Khaak Mein Mila Ke Mujhe

Poet: Daag Dehlvi

 

Rahe Ga Ishq Tera Khaak Mein Mila Ke
Mujhe Ke Ibtidaa Mein Huye Ranj Intihaa Ke Mujhe

Diye Hain Hijar Mein Dukh Dard Kis Balaa Ke
Mujhe Shab-E-Firaaq Ne Maara Litaa Litaa Ke

Mujhe Baghair Maut Ke Kis Tarah Koi Marta Hai
Mera Raqeeb Bhi Roya Galey Laga Ke Mujhe

Har Ik Shakhss Ko Haasil Judaa Hai Kefiyat Jafaa Ke
Lutf Tujhe Hain Mazey Wafaa Ke Ghazab Ki Aah Meri Daagh
Naam Hai Mera Tamaam Sheher Jalaao Ge Kya Jalaa Ke Mujhe

Punjabi and Urdu Shayari – Daag Dehlvi

न कर सके हम उनसे दिल का सौदा
लूट के ले गए लोग हमे मोहबत का दिलासा दे कर

Hindi and Urdu Shayari , Shayari , शायरी , mohabbat ki Shayari , wafa ki Shayari , soda (सौदा)

BABA BULLAY SHAH

Parrh Parrh Aalim Faazil Hoya
Kaddi Apney Aap noo Parrheya hi nahin

Jaa Jaa Warda Mandir Maseetaan
Kaddi Mun Apney Vich tun Wardeya ee Nahin

Ainwayn Roz Shaitaan dey naal Larda
Kaddi Nafs Apney Naal Lardeya ee nahin

“Bulleh Shah” Aasmaanin Uddiyaan Phardaa
Jaidha Ghar Baitha Ohnun Phardeya ee Nahin

*******BABA BULLAY SHAH*********