इश्क़ – रहमत-ऐ खुदा

इश्क़ रहमत-ऐ खुदा

 

कफ़न

यह दुनिया तुम्हे क्या देगी मोसिन .
जिस दुनिया ने हुसैन को कफ़न तक न दिया .

हिंदी और उर्दू शायरी – इश्क़ रहमत-ऐ खुदा शायरी – यह दुनिया तुम्हे क्या देगी मोसिन

 

kafan

Yeh dunya thume kya degi mohsin.
Jis dunya ne hussain ko kafan tak na diya.

Hindi and urdu shayari – Ishq Khudaa Shayari – Yeh dunya thume kya degi mohsin
Like it
[Total: 1110 Average: 3]

 सजदा 

कर लो जितने कर सकते हो सजदे
अक्सर लोगो को बिना सजदे नमाज़ पढ़ते देखा है

हिंदी और उर्दू शायरी – इश्क़ रहमत-ऐ खुदा शायरी – कर लो जितने कर सकते हो सजदे

 

Sajda  

Kar Lo Jitnay Kar Saktay Ho Sajjde
Aksar Logoon Ko Bina Sajjde Namaaz Parhtay Dekha Hai

Hindi and urdu shayari – Ishq Khudaa Shayari  – Kar Lo Jitnay Kar Saktay Ho Sajjde
Like it
[Total: 1110 Average: 3]

खुदा इश्क़

एक मुद्दत के बाद हम ने यह जाना ऐ खुदा
एक तेरी ज़ात से इश्क़ सच्चा , बाक़ी सब अफ़साने हैं

हिंदी और उर्दू शायरी – इश्क़ रहमत-ऐ खुदा शायरी – एक तेरी ज़ात से इश्क़ सच्चा

 

Khudaa Ishq

Ek Muddat Ke Baad Hum Ne Yeh Jana Aye Khuda
Ek Teri Zaat Se Ishq Sacha, Baqi Sab Afsaane Hain

Hindi and urdu shayari – Ishq Khudaa Shayari – Ek Teri Zaat Se Ishq Sacha
Like it
[Total: 1110 Average: 3]

गुनाह

रोज़ गुनाह करता हूँ ,
वो छुपता है अपनी रहमत से
में मजबूर अपनी आदत से ,
वो मशहूर अपनी रहमत से

हिंदी और उर्दू शायरी – इश्क़ रहमत-ऐ खुदा शायरी – वो मशहूर अपनी रहमत से

 

Gunaah

Roz gunaah karta hun,
woh chupata hai Apni Rehmat se
Mein majboor apni Aadat se,
woh mashhoor Apni Rehmat se

Hindi and urdu shayari – Ishq Khudaa Shayari – woh mashhoor Apni Rehmat se
Like it
[Total: 1110 Average: 3]

आँसू

कितने आँसू बहा दिए इन चार दिन की मोहब्बत में
काश सजदे में बहते तो गुनहगार न होते

हिंदी और उर्दू शायरी – इश्क़ रहमत-ऐ खुदा शायरी – सजदे में बहते तो गुनहगार न होते

 

Aansoo

kitne aansoo baha diye in char din ki mohabbat me
kash sajde me bahate to gunahgar na hote

Hindi and urdu shayari – Ishq Khudaa Shayari – sajde me bahate to gunahgar na hote
Like it
[Total: 1110 Average: 3]

आओ बातें करें और हमारे पोस्ट के बारे में हमे बताइये - Please Post the comment