काश ! के  होते  वो  मेरे

काश ! के होते वो मेरे

काश ! के  होते  वो  मेरे
उनकी  आगोश  में  गुजरती  शामें
उनकी  बाँहों  में  होते  मेरे  सवेरे

      न  रहती  बाकि  कोई  आरज़ू , कोई हसरत
      न  होते  जीवन  में  अँधेरे

  जाने  क्यों  मेरी  राहों  में
किस्मत  ने  कांटे  बिखेरे

      है  दिल  का  बगीचा  वीरान
      वो  फूल      सका  आंचल में  मेरे

बड़ी  खुश  किस्मत  होगी  वो
आएगी  जो  जीवन  में  तेरे

      इस  कदर  हम  तन्हा    हुए  होते
      अगर  होते  वो  मेरे
      हाँ  ! काश  होते  वो  मेरे

लेखिका – जसविंदर कौर उर्फ़ जस्सी (नकोदर पंजाब)


Kash ! Ke Hote Wo Mere

Kash ! Ke Hote Wo Mere
Unki Agosh Mein Gujrati Shaame
Unki Bahon Mein Hote Mere Savere

                    Na Rehti Baki Koi Arzoo, Na Koi Hasrat
                    Na Hote Jeevan Main Andhere

Na Jane Kyon Meri Rahon Mein
Kismat Ne Kante Bikhere

                   Hai Dil Ka Bagicha Viran
                   Wo Phool Na Aa Saka Aanchal Mein Mere

Badi Kush Kismat Hogi Wo
Ayegi Jo Jivan Main Tere

                   Is Kadar Hum Tanha Na Hue Hote
                   Agar Hote Wo Mere
                   Haan Kash Hote Wo Mere

Written By – Jaswinder Kaur “Jassi” (Nakodar Punjab)

वफ़ा करना भी सीखो इश्क़ की नगरी में
सिर्फ दिल लगाने से दिलो में घर नहीं बनते ।

View this post on Instagram

@cute_couples_dps_

A post shared by All TypEs Of ShaYari (@heart_taching_shayari_) on


1 thought on “काश ! के  होते  वो  मेरे

  1. https://hearttenant.com/
    सुनो मन , नन्हा सा दिल भले ही है ..!! पर उसमें जगह बहुत है तुम्हारे लिए ….!!!!

आओ बातें करें और हमारे पोस्ट के बारे में हमे बताइये - Please Post the comment