कोई तो बात है उस मैं – फैज़ अहमद फैज़ शायरी

fiaz ahmad fiaz

 

कोई तो बात है उस मैं “फैज़ अहमद फैज़”

अब के यूं दिल को सजा दी हम ने
उस की हेर बात भुला दी हम ने

एक एक फूल बहुत याद आया
शाख -ऐ -गुल जब वो जला दी हम ने

आज तक जिस पे वो शर्माते हैं
बात वो कब की भुला दी हम ने

शहर-ऐ-जहाँ राख से आबाद हुआ
आग जब दिल की बुझा दी हम ने

आज फिर याद बहुत आया वो
आज फिर उस को दुआ दी हम ने

कोई तो बात है उस मैं फ़राज़
हर ख़ुशी जिस पे लूटा दी हम ने

हिंदी और उर्दू शायरी – फैज़ अहमद फैज़ शायरी – कोई तो बात है उस मैं फ़राज़

 

Koi To Baat Hai Us Main “Faiz”

Ab Kay Yoon Dil Ko Saza Di Hum Nay
Us Ki Har Baat Bhula Di Hum Nay

Ek , Ek Phool Bahut Yaad Aaya
Shakh-AE-Gul Jab Wo Jala Di Hum Nay

Aaj Tak Jis Pay Wo Sharmatay Hain
Baat Wo Kab Ki Bhula Di Hum Nay

Sheher-AE-Jahan Raakh Say Abaad Hua
Aag Jab Dil Ki Bujha Di Hum Nay

Aaj Phir Yaad Bahut Aaya Wo
Aaj Phir Us Ko Dua Di Hum Nay

Koi To Baat Hai Us Main Faiz
Her Khushi Jis Pay Luta Di Hum Nay

Hindi and urdu shayari – Faiz Ahmed Faiz Shayari – Koi To Baat Hai Us Main Faiz
Like it
[Total: 131 Average: 2.7]

शब -ऐ -ग़म


दोनों जहां तेरी मुहब्बत में हार के

वो जा रहा है कोई शब -ऐ -ग़म गुज़ार के

हिंदी और उर्दू शायरी – शब -ऐ -ग़म शायरी – एक ग़ैर के पहलु में हमारा प्यार होगा

 

Shab-E-Gham

Dono jahaan teri muhabbat mein haar ke
wo jaa rahaa hai koi shab-e-Gham guzaar ke

Hindi and urdu shayari – Faiz Ahmed Faiz Shayari – shab-e-Gham
Like it
[Total: 131 Average: 2.7]

आओ बातें करें और हमारे पोस्ट के बारे में हमे बताइये - Please Post the comment