इश्क़ की कीमत पूछ लो मुझ से – Passionate Shayari

waqt

तुम्हारा साथ

जी चाहता है तुम से प्यारी सी बात हो
हसीं चाँद तारे हो , लम्बी सी रात हो
एहसास हो , बात हो और तुम्हारा साथ हो
यही सिलसिला तमाम रात हो , तुम्हारा साथ हो
तुम मेरी ज़िन्दगी हो , तुम मेरी कायनात हो .

हिंदी और उर्दू शायरी – मोहब्बत शायरी – यही सिलसिला तमाम रात हो

 

Tumhara Sath

Jee Chahta Hai Tum Se Pyari Si Baat Ho
Haseen Chand Tare Ho, Lambi Si Raat Ho
Ehsaas ho, baat ho aur tumhara sath ho
Yahi silsila tamam raat ho, tumhare sath ho
Tum Meri Zindagi Ho, Tum Meri Kayinat Ho.

Urdu and Hindi Shayari – Mohabbat Shayari- Yahi silsila tamam raat ho
Like it
[Total: 282 Average: 3]

तेरे क़दमों में

तुम न जाओ कहीं
बस एक नज़र देख लेने की इजाज़त दे दो
कुछ वक़्त गुज़ार लू तेरे क़दमों में
इक ज़िन्दगी जीने की इजाज़त दे दो

हिंदी और उर्दू शायरी – मोहब्बत शायरी – कुछ वक़्त गुज़ार लू तेरे क़दमों में

 

Tere Kadmo Mein

Tum na jao kahin..
Bas ek nazar dekh lene ki ijazat de do
Kuchh waqt guzar lo tere Kadmo mein
Ik zindagi jeene ki ijaazat de do

Urdu and Hindi Shayari – Mohabbat Shayari- Kuchh waqt guzar lo tere qadmon mein
Like it
[Total: 282 Average: 3]

ऐतबार

किसी को प्यार इतना देना की हद न रहे
पर ऐतबार भी इतना रखना की शक न रहे
वफ़ा इतनी करना की बेवफाई न हो
और दुआ बस इतनी करना की जुदाई न हो

हिंदी और उर्दू शायरी – मोहब्बत शायरी – वफ़ा इतनी करना की बेवफाई न हो

 

Aitbaar

Kisi ko pyar itna dena ki had na rahe
par aitbaar bhi itna rakhna ki shak na rahe
wafa itni karna ki bewafai na ho
aur dua bus itni karna ki judai na ho

Urdu and Hindi Shayari – Mohabbat Shayari- wafa itni karna ki bewafai na ho
Like it
[Total: 282 Average: 3]

इश्क़ की कीमत

मौत के पास जा कर भी देखा है
मैंने दिल लगा कर भी देखा है

चाँद को लोग दूर से देखते है
मैंने चाँद को पास बुला कर भी देखा है

इश्क़ की कीमत पूछ लो मुझ से
मैंने घर तक लुटा कर भी देखा है

प्यार तो भीख में भी मिल जाता है
मैंने तो दामन को भी फैला कर देखा है

एक शख्स है जो भूलता नहीं मुझसे
मैंने तो सारी दुनिया को भुला कर भी देखा है

हिंदी और उर्दू शायरी – मोहब्बत शायरी – इश्क़ की कीमत पूछ लो मुझ से

 

Ishq Ki Kimat

Mout ke paas ja kar bhi Dekha hai
Meine Dil Laga kar bhi dekha hai

Chaand ko log Door se Dekhte hai
Meine chaand ko Pass Bula kar bhi Dekha hai

Ishq Ki Kimat Puch loo mujh say
Meine Ghar Tak Luta kar bhi Dekha hai

pyar to bhekh mein bhi mil jata hai
Meine to daaman ko bhi Pehla kar dekha hai

Ek shaks hai jo bhulta nhi mujh say
Meine to Sari dunya ko bhula kar bhi dekha hai

Urdu and Hindi Shayari – Mohabbat Shayari- Ishq Ki Kimat Puch loo mujh say
Like it
[Total: 282 Average: 3]

आओ बातें करें और हमारे पोस्ट के बारे में हमे बताइये - Please Post the comment