एक तेरे आने से कितनी महक उठी है यह ज़िन्दगी

 

एक तेरे आने से कितनी महक उठी है यह ज़िन्दगी

 

एक तेरे आने से कितनी महक उठी है यह ज़िन्दगी ,
सच में , तेरे बिना कितनी अधूरी से थी ये ज़िन्दगी

तेरी एक मुस्कराहट से खिल उठती है यह ज़िन्दगी
तेरी आवाज़ से गूंज उठती है यह ज़िन्दगी

तेरा मासूम चहेरा , तेरी भोली अदाएं , तेरा गुन -गुनाना ,
हाय रब्बा , किस किस पर कुर्बान करू मेरी ये जिंदगी

देखती हूँ तुझमें मैं अपने आप को , तू भी मेरा ही साया
लगता है मेरा ही नया रूप लेकर आई है मेरी ही जिंदगी

 

हिंदी और उर्दू शायरी – एक  तेरे  आने  से   कितनी  महक  उठी  है  यह  ज़िन्दगी – ज़िन्दगी शायरी

 
Ek Tere Aane Se Kitani Mahek Uthi Hai Ye Zindagi,
Sach Mein, Tere Bina Kitani Adhuri Se Thi Ye Zindagi

Teri Ek Muskuraahat Se Khil Uthti Hain Yeh Zindagi,
Teri Aawaaz Se goonj Uthti Hai Yeh Zindagi,

Tera Maasoom Chahera, Teri Bholi Adaaye, Tera Gun-Gunaana,
Hayee Rabba, Kis Kis Par Kurbaan Karu Meri Yeh Zindagi

Dekhati Hoon Tujmein Main Apane Aap Ko, Tu bhi Mera Hi Saaya,
Lagata Hai Mera Hi Naya Roop Lekar Aai hai Meri hi Zindagi

 

Hindi and Urdu shayari – Ek Tere Aane Se Kitani Mahek Uthi Hai Ye Zindagi – Zindagi Shayari

 

 

आओ बातें करें और हमारे पोस्ट के बारे में हमे बताइये - Please Post the comment