मौसम बेघर होने लगे है – Nature Soreness

Mausam Beghar

मौसम बेघर होने लगे है

बंजारे लगते है मौसम, मौसम बेघर होने लगे है।
जंगल , पेड़ , पहाड़, समंदर, इंसान सब कुछ काट रहा है।
छील छील के खाल ज़मीं की, टुकड़ा टुकड़ा बाँट रहा है।
आसमान से उतरे मौसम,सारे बंजर होने लगे है।
मौसम बेघर होने लगे है।

दरियाओं पे बांध लगे है,फोड़ते है सर चट्टानों से
बंदी लगती है यह ज़मीन,डरती है अब इंसानों से
बहती हवाओं पे चलने वाले,पाँव पत्थर होने लगे है।
मौसम बेघर होने लगे है।

Poet Words – In this poem the poet is describing the pain of nature.


Mausam Beghar Hone Lage Hai

Banjaare Lagate Hai Mausam,Mausam Beghar Hone Lage Hai
Jangal , Ped , Pahaad, Samandar,Insaan Sab Kuchh Kaat Raha Hai
Chheel Chheel Ke Khaal Zameen Kee,Tukada Tukada Baant Raha Hai
Aasamaan Se Utare Mausam,Saare Banjar Hone Lage Hai
Mausam Beghar Hone Lage Hai

Dariyaon Pe Baandh Lage Hai.Phodate Hai Sar Chattaanon Se
Bandee Lagatee Hai Yah Zameen,Daratee Hai Ab Insaanon Se
Bahatee Havaon Pe Chalane Vaale,Paanv Patthar Hone Lage Hai
Mausam Beghar Hone Lage Hai

आओ बातें करें और हमारे पोस्ट के बारे में हमे बताइये - Please Post the comment