दिल तो जले मगर ‘राख ‘ न हो – महफ़िल शायरी

Mehfil shayari

 

 

दिल मौजूद न था

उन को देखा तो कुछ खोने का एहसास हमे हुआ
हाथ सीने पे जो गया तो दिल मौजूद न था

उर्दू महफ़िल शायरी – महफ़िल शायरी – दिल मौजूद न था

 

Dil Maujood Na Tha

Un Ko Dekha To kush khone ka Ehsaas hume Hua
Hath Seene Pe jo gaya to Dil Maujood Na Tha

Urdu Mehfil shayari – Mehfil shayari – Dil Maujood Na Tha
Like it
[Total: 984 Average: 3]

बस दुआ है

और कुछ नहीं चाहती मैं इस ज़िन्दगी में ‘मेरे रब ’
बस दुआ है के किसी के दुःख की वजह मेरी ज़ात न बने

उर्दू महफ़िल शायरी – महफ़िल शायरी – किसी के दुःख की वजह मेरी ज़ात न बने

 

Bas Dua Hai

Aur Kuch Nahi Chahti Main is Zindagi Mein ‘Mere Rab’
bas Dua Hai Ke Kisi Ke Dukh Ki wajha Meri Zaat Na Ho

Urdu Mehfil shayari – Mehfil shayari – Kisi Ke Dukh Ki wajha Meri Zaat Na Ho
Like it
[Total: 984 Average: 3]

मुस्कराहट बनाए रखो

हर एक ख्याल को ज़ुबान नहीं मिलती
हर एक आरज़ू को दुआ नहीं मिलती
मुस्कराहट बनाए रखो तो दुनिया है साथ
आँसुओ को तो आँखों में भी पनाह नहीं मिलती

उर्दू महफ़िल शायरी – महफ़िल शायरी – मुस्कराहट बनाए रखो तो दुनिया है साथ

 

Muskurahat Banaye Rakho

Har Ek khyal Ko Zuban Nahi Milti
Har Ek Aarzu Ko Dua Nahi Milti
Muskurahat Banaye Rakho To Duniya Hai Sath
Aansoo Ko To Ankhoo Mein Bhi Panah Nahi Milti

Urdu Mehfil shayari – Mehfil shayari – Muskurahat Banaye Rakho To Duniya Hai Sath
Like it
[Total: 984 Average: 3]

मोहब्बत की आग

करते है मोहब्बत और जताना भूल जाते है
पहले खफा होते हैं फिर मनना भूल जाते है
भूलना तो फितरत सी है ज़माने की
लगाकर आग मोहब्बत की बुझाना भूल जाते है

उर्दू महफ़िल शायरी – महफ़िल शायरी – लगाकर आग मोहब्बत की बुझाना भूल जाते है

 

Mohabbat ki Aag

Karte hai mohabbat aur jtana bhool jate hai
Pehle khfa hote hain fir manana bhool jate hai
Bhulna to fitrat si hai zamane ki
Lagakar aag mohabbat ki bujhana bhool jate hai

Urdu Mehfil shayari – Mehfil shayari – Lagakar aag mohabbat ki bujhana bhool jate hai
Like it
[Total: 984 Average: 3]

दिल तो जले

वो शमा की महफ़िल ही क्या
जिसमे परवाना जल कर ‘ख़ाक’ न हो
मज़ा तो तब आता है चाहत का मेरे यार
जब दिल तो जले मगर ‘राख ‘ न हो

उर्दू महफ़िल शायरी – महफ़िल शायरी – जब दिल तो जले मगर ‘राख ‘ न हो

 

Dil To Jale

Wo Shama Ki Mehfil Hi Kya
Jisme parvana Jal Kar ‘Khaak’ Na Ho
Maza To Tab Aata Hai Chahat Ka mere yaar
Jab Dil To Jale Magar ‘Raakh’ Na Ho

Urdu Mehfil shayari – Mehfil shayari – Jab Dil To Jale Magar ‘Raakh’ Na Ho
Like it
[Total: 984 Average: 3]

 

आओ बातें करें और हमारे पोस्ट के बारे में हमे बताइये - Please Post the comment