मेहरबान होके बुलालो मुझे चाहो जिस भी वक़्त – मिर्ज़ा ग़ालिब

गुजरा वक़्त – मिर्ज़ा ग़ालिब

मेहरबान होके बुलालो मुझे चाहो जिस भी वक़्त
मैं गुजरा वक़्त नहीं हूँ के फिर लौट के आ भी न सकूँ

उर्दू और हिंदी शायरी – मिर्ज़ा ग़ालिब की शायरी – मेहरबान होके बुलालो मुझे चाहो जिस भी वक़्त

 

Gujra waqt – Mirza Ghalib

Mehrbaan hoke bulalo mujhe chahee jis bhi waqt
Main gujra waqt Nahi hoon Ke Phir laut ke aa bhi Na Sako

Urdu and Hindi Shayari – Mirza Ghalib Ki Shayari – Mehrbaan hoke bulalo mujhe chahee jis bhi waqt
Like it
[Total: 322 Average: 3.1]

जोश-ऐ -मोहब्त – मिर्ज़ा ग़ालिब

खाक हो जाएंगे यह जोश-ऐ -मोहब्त ग़ालिब
जले कोई मरे कोई , अँधेरा मेरी महफ़िल में

उर्दू और हिंदी शायरी – मिर्ज़ा ग़ालिब की शायरी – खाक हो जाएंगे यह जोश-ऐ -मोहब्त ग़ालिब

 

Josh-AE-Mohabt – Mirza Ghalib

Khak Ho jaige Yeh josh-AE-Mohabt Ghalib
jale Koi Mare Koi, andhera Meri Mehfil Mein

Urdu and Hindi Shayari – Mirza Ghalib Ki Shayari – Khak Ho jaige Yeh josh-AE-Mohabt Ghalib
Like it
[Total: 322 Average: 3.1]

सजदा और इश्क़  – मिर्ज़ा ग़ालिब 

सजदे तो सब ने किये तेरा नया अंदाज़ है
तूने वो सजदा किया जिस पर इश्क़ को नाज़ है

उर्दू और हिंदी शायरी – मिर्ज़ा ग़ालिब की शायरी – सजदे तो सब ने किये तेरा नया अंदाज़ है

 

Sajda Aur Ishq – Mirza Ghalib

Sajde to Sab Ne Kiye Tera Naya Andaz Hai
Tune wo Sajda Kiya Jis Par ishq Ko Naaz Hai

Urdu and Hindi Shayari – Mirza Ghalib Ki Shayari – Sajde to Sab Ne Kiye Tera Naya Andaz Hai
Like it
[Total: 322 Average: 3.1]

खुदा – मिर्ज़ा ग़ालिब

हैरान हो तुम को मस्जिद में देख कर ग़ालिब
ऐसा भी क्या हुआ के खुदा याद आ गया

उर्दू और हिंदी शायरी – मिर्ज़ा ग़ालिब की शायरी – हैरान हो तुम को मस्जिद में देख कर ग़ालिब

 

Khuda – Mirza Ghalib

hairan Hoon Tum Ko Masjid Mein Dekh Kar Ghalib
Aisa Bhi Kia Hua Ke Khuda Yaad aa gaya

Urdu and Hindi Shayari – Mirza Ghalib Ki Shayari – hairan Hoon Tum Ko Masjid Mein Dekh Kar Ghalib
Like it
[Total: 322 Average: 3.1]

आओ बातें करें और हमारे पोस्ट के बारे में हमे बताइये - Please Post the comment