तमाम उम्र तेरा मुंतज़िर रहा – मोहसिन नक़वी की शायरी

Mohsin

तमाम उम्र तेरा मुंतज़िर रहा “मोहसिन”

उदासियों का यह मौसम बदल भी सकता था
वो चाहता तो मेरे साथ चल भी सकता था

वो शख्स तूने जिसे छोड़ने की जल्दी की
तेरे मिज़ाज के साँचे में ढाल भी सकता था

वो जल्दबाज़ खफा हो के चल दिया वरना
तनाज़आत का कोई हल निकल भी सकता था

आन ने हाथ उठने नहीं दिए वरना
मेरी दुआ से वो पत्थर पिघल भी सकता था

तमाम उम्र तेरा मुंतज़िर रहा मोहसिन
यह और बात के वो रास्ता बदल भी सकता था

हिंदी और उर्दू शायरी – मोहसिन नक़वी की शायरी – तमाम उम्र तेरा मुंतज़िर रहा “मोहसिन”

 

Tamam Umar Tera Muntazir Raha “Mohsin”

Udaasiyun Ka Yeh Mosam Badal Bhi Sakta Tha
Wo Chahta To Mere Sath Chal Bhi Sakta Tha

Wo Shakhs Tune Jisay Chornye Ki Jaldi Ki
Tare Mizaj Ke Sanchy Mein Dhal Bhi Sakta Tha

Wo Jaldbaaz Khafa ho Ke Chal diya Warna
Tanazaat Ka Koi Haal Nikal bhi Sakta Tha

Ann Ne Hath Uthne Nahi Diye Warna
Meri Dua Say Wo Pathar Pigal Bhi Skta Tha

Tamam UMAR Tera Muntazir Raha Mohsin
Yeh Aur Baat Ke Wo Rasta Badal bhi Sakta Tha!

Hindi and urdu shayari – Mohsin Naqvi ki Shayari – Tamam UMAR Tera Muntazir Raha “Mohsin”
Like it
[Total: 135 Average: 3.1]

यह आखरी खत मैं लिख रहा हूँ

उदास तहरीर पढ़ के मेरी , मेरे सनम मुस्कुरा न देना
यह आखरी खत मैं लिख रहा हूँ , ख्याल करना जला न देना

गुज़र रही है तुम्हारी कैसे , बिछड़ के हम से रुला के हमको
हक़ीक़तों को ज़रूर लिखना , आन की खातिर छुपा न देना

कोई पूछे किधर गया वो , जो तेरी महफ़िल का था सहारा
जो फुरकतों का सबब बने थे , किसी बशर को बता न देना

मैं मर भी जाऊं तो मुस्कुराना , एहसास -ऐ -ग़म की न चोट खाना
जो क़ुर्ब -ऐ -ग़म से निगाहें भीगें तो रुख से आँचल हटा न देना

लहू से तहरीर कर रहा हूँ , मैं अपनी सारी कहानी मोहसिन
जो फाड़ भी दो तो पास रखना , हवा में  टुकड़े उड़ा न देना

हिंदी और उर्दू शायरी – मोहसिन नक़वी की शायरी – उदास तहरीर पढ़ के मेरी , मेरे सनम मुस्कुरा न देना

 

Yeh Aakhri Khat Main Likh Raha Hun

Udaas Tehreer Parh Ke Meri, Mere Sanam Muskura Na Dena
Yeh Aakhri Khat Main Likh Raha Hun, Khayal Karna Jala Na Dena

Guzar Rahi Hai Tumhari Kese, Bichar Ke Hum se Rula Ke Humko
haqeeton Ko Zaroor Likhna, Aana Ki Khatir Chupa Na Dena

Koi Poochay Kidhar Gaya Wo, Jo Teri Mehfil Ka Tha Sahara
Jo Furqaton Ka Sabab Bane Thay, Kisi Bashar Ko Bata Na Dena

Main Mar Bhi Jaon To Muskurana, Ehsaas-e-Gham Ki na Chot Khana
Jo Qurb-e-Gham Se Nighayen Bheegen To Rukh Se Aanchal Hata Na Dena

Lahu Se Tehreer Kar Raha Hoon, Main Apni Saari Kahani MOHSIN
Jo phaar bhi Do To Paas Rakhna, Hawa Mein Tukde udha Na Dena

Hindi and urdu shayari – Mohsin Naqvi ki Shayari – Udaas Tehreer Parh Ke Meri, Mere Sanam Muskura Na Dena
Like it
[Total: 135 Average: 3.1]

आओ बातें करें और हमारे पोस्ट के बारे में हमे बताइये - Please Post the comment