Posted in Musafir Shayari Public Post Zindagi

शायरी – एक मुसाफिर अजनबी

  मुसाफिर के रास्ते बदलते रहे मुसाफिर के रास्ते बदलते रहे , मुक़द्दर में चलना था चलते रहे मेरे रास्तों में उजाला रहा , दीये…

Continue Reading...