Recent Posts

Posted in Public Post

एक बन गया दिन और दूसरा रात हो गया

एक बन गया दिन और दूसरा रात हो गया जो न हुआ कभी एक रात हो गया  चाँद को सूरज से पयार हो गया  चाँद…

Continue Reading...
Posted in HappyBirthDay Public Post Shayari

Happy Birthday to You – जन्मदिन मुबारक

  जन्मदिन मुबारक शमा में अगर नूर न होता , तनहा दिल इतना मजबूर न होता हम आपको खुद जन्मदिन मुबारक देने आते यदि आपका…

Continue Reading...
Khidmat Ke Qabil
Posted in Public Post

उम्र भर तेरी मोहब्बत मेरी खिदमत रही

    तेरी खिदमत के क़ाबिल उम्र भर तेरी मोहब्बत मेरी खिदमत रही मैं तेरी खिदमत के क़ाबिल जब हुआ तो तू चल बसी हिंदी…

Continue Reading...
Posted in Public Post Shayari

ज़ख़्मी दिल की शायरी

ज़ख़्मी  दिल की शायरी इश्क़ में दिल टूट जाता है मयखाने में जाम  टूट जाता है इश्क़ में दिल टूट जाता है न जाने क्या…

Continue Reading...
Meri Tanhai Mera Afsana
Posted in Dard Shayari Public Post YAAD AND JUDAAI SHAYARI

मेरी  तन्हाई  मेरा अफसाना- Meri Tanhai Mera Afsaana

मेरी  तन्हाई  मेरा अफसाना सोचा था की उनको भूल जायेंगे सोचा था की उनको भूल जायेंगे उनको देख कर भी अनदेखा कर जायेंगे पर जब…

Continue Reading...
Posted in Public Post

Yes, I am Relaxing – Funny Banta

Yes, I am Relaxing Banta was enjoying sun on a beach. A lady came and asked him, “Are you relaxing?”. Banta answered, “No I am…

Continue Reading...
Posted in Public Post Shayar and Poet Shayari

गज़ब किया जो तेरे वादे पे एतबार किया – Mir Dagh Dhelvi

तेरे वादे पे एतबार किया गज़ब किया जो तेरे वादे पे एतबार किया तमाम रात हमने क़यामत का इंतज़ार किया न पूछ दिल की हक़ीक़त…

Continue Reading...
Dhadkan
Posted in Dhadkan Public Post Shayari

हर धड़कन में एक राज़ होता है – धड़कन उर्दू शायरी

बहुत देर कर दी तुमने मेरी धड़कन महसूस करने में वो दिल नीलाम हो गया जिस को कभी हसरत तुम्हारे दीदार की थी हर धड़कन…

Continue Reading...
weekend-weekenddec
Posted in Public Post

Weekend Quotes and Images – Friday, Saturday, & Sunday…

        One of the simplest way to stay happy is by letting go of the things that make you sad. Have a…

Continue Reading...
Posted in Public Post

सामने मंज़िल थी और पीछे उस की आवाज़

  सामने मंज़िल थी और पीछे उस की आवाज़ सामने मंज़िल थी और पीछे उस की आवाज़ , रुकता तो सफर जाता ,चलता तो बिछड़…

Continue Reading...