Recent Posts

Hijar
Posted in Public Post Shayari

हम तेरे हिजर में अंदर से बिखर जाते हैं – WASI SHAH SHAYARI

    हिजर हम तेरे हिजर में अंदर से बिखर जाते हैं ज़िंदा लगते हैं मगर असल में मर जाते हैं जब कभी बोलता है…

Continue Reading...
Riwayat
Posted in Public Post

सब को दुआओं में याद रखना आदत है मेरी

    रिवायत माना के मरने वालों को भुला देती है यह दुनिया मुझे जीते जी को भुला कर तुम ने रिवायत ही बदल डाली…

Continue Reading...
chahat
Posted in Public Post

काश उन्हें भी कभी हम पे ऐतबार तो होता – ऐतबार शायरी

  काश उन्हें भी कभी हमपे ऐतबार तो होता काश उनका दिल इतना शख्त न होता , प्यार हमसे भी कभी उन्होंने किया होता …..

Continue Reading...
DARDE DIL
Posted in Public Post Shayari YAAD AND JUDAAI SHAYARI

याद-ऐ-गम

एक अजनबी चले आओ फिर से एक अजनबी हो कर मिलने तुम मेरा नाम पूछो में तुम्हारा हाल पुछू Urdu and Hindi Shayari – Yaad Shayari-…

Continue Reading...