मेरे दामन में तो काँटों के सिवा कुछ भी नहीं

 

 

मेरे दामन में तो काँटों के सिवा कुछ भी नहीं

मेरे दामन में तो काँटों के सिवा कुछ भी नहीं ..
आप फूलों के खरीदार नज़र आते हैं .

कल जिन्हें छु नहीं सकती थी फरिश्तों की नज़र ..
आज वो रौनक -ऐ -बाजार नज़र आते हैं ..

हशर मैं कौन गवाही मेरी दे ग “साग़र ”
सब तुम्हारे हे तरफदार नज़र आते हैं …

हिंदी और उर्दू शायरी – सागर सिद्दीकी की शायरी – मेरे दामन में तो काँटों के सिवा कुछ भी नहीं

 

Mere Daaman Main To Kanton Ke Siwa Kuch Bhee Nahin

Mere Daaman Main To Kanton Ke Siwa Kuch Bhee Nahin..
Aap Phoolon Ke Kharidaar Nazar Aate Hain.

Kal Jinhein Choo Nahin Sakti Thee Farishton Ki Nazar..
Aaj Wo Ronaq-e-Bazaar Nazar Aate Hain..

Hashr Main Kon Gawahi Meri De Ga “SAGHAR”
Sab Tumhare He Tarafdaar Nazar Aate Hain…

Hindi and urdu shayari – SAGHAR Siddiqui Ki Shayari – Mere Daaman Main To Kanton Ke Siwa Kuch Bhee Nahin

शमा और परवाना 

लोग लेते हैं यूं ही शमा और परवाने का नाम ,
कुछ नहीं है इस जहाँ में गम के अफ़साने का नाम

हिंदी और उर्दू शायरी – सागर सिद्दीकी की शायरी – लोग लेते हैं यूं ही शमा और परवाने का नाम

 

Shamma or parwaney

log letey hain yoon hi shamma or parwaney ka naam,
Kuch nahi hai is jahan me gum kay afsaney ka naam

Hindi and urdu shayari – SAGHAR Siddiqui Ki Shayari – log letey hain yon hi shamma or parwaney ka naam

आगोश- ऐ- मोहब्बत

फूल चाहे थे मगर हाथ में आए पत्थर ,
हम ने आगोश- ऐ- मोहब्बत में सुलाये पत्थर ..

हिंदी और उर्दू शायरी – सागर सिद्दीकी की शायरी – फूल चाहे थे मगर हाथ में आए पत्थर

 

Aghosh-ae-mohabbat

Phool chahey they magar hath mein aye pathar,
Hum ne aghosh-ae-mohabbat me sulaye pathar..

Hindi and urdu shayari – SAGHAR Siddiqui Ki Shayari – Phool chahey they magar hath mein aye pathar

जश्न-ऐ-बहाराँ

उठा कर चूम ली हैं चंद मुरझाई हुई कलियाँ ,
न तुम आए  तो यूं जश्न -ऐ -बहाराँ  कर लिया मैने ..

हिंदी और उर्दू शायरी – सागर सिद्दीकी की शायरी – उठा कर चूम ली हैं चंद मुरझाई हुई कलियाँ

 

Jashn-ae-baharan

Utha kar choom lee hain chand murjhayi huyi kaliyan,
Na tum ayee too yoon jashn-ae-baharan kar liya mene..

Hindi and urdu shayari – SAGHAR Siddiqui Ki Shayari – Utha kar choom li hain chand murjhayi huyi kaliyan

 

 

 

आओ बातें करें और हमारे पोस्ट के बारे में हमे बताइये - Please Post the comment