मेरी ज़िन्दगी मेरा ख्वाब हैं – सवाल शायरी

sawaal shayari

 

मेरी ज़िन्दगी मेरा ख्वाब हैं

न सवाल बन कर मिला करो , न जवाब बन कर मिला करो ,
मेरी ज़िन्दगी मेरा ख्वाब हैं , मुझे ख्वाब बन कर मिला करो ,

हिंदी और उर्दू शायरी – सवाल शायरी – न सवाल बन कर मिला करो

 

Meri zindagi mera khwab hain

Na sawaal ban kar mila karo, na jawab ban kar mila karo,
Meri zindagi mera khwab hain, mujhe khwab ban kar mila karo,

urdu and hindi shayari , sawaal shayari – Na sawaal ban kar mila karo
Like it
[Total: 300 Average: 2.8]

मुझे तुम याद आते हो

हमें अब खो कर कहते हो मुझे तुम याद आते हो ,
किसी का हो के कहते हो मुझे तुम याद आते हो
न पूछ तू उस की बदनसीबी का आलम ,
के सब कुछ खो के कहते हो मुझे तुम याद आते हो

हिंदी और उर्दू शायरी – याद शायरी – हमें अब खो कर कहते हो मुझे तुम याद आते हो

 

Mujhe Tum Yaad Atey Ho

Humain ab kho kar kehto ho mujhe tum yaad atey ho,
Kissi ka ho ke kehto ho mujhe tum yaad atey ho
Na pooch tu us ki badnaseebi ka aalam,
Ke sab kuch kho ke kehta hai mujhe tum yaad atey

urdu and hindi shayari , yaad shayari – Humain ab kho kar kehto ho mujhe tum yaad atey ho
Like it
[Total: 300 Average: 2.8]

वो तमना तुम्ही हो

मालूम होता है भूल गए हो शयद 
या फिर कमाल का सबर रखते हो 
हम जिस से ज़िंदा हैं वो तमना तुम्ही हो 
हम जिस में बस रहे हैं वो दुनिया तुम्ही हो 

हिंदी और उर्दू शायरी – तमना शायरी – हम जिस से ज़िंदा हैं वो तमना तुम्ही हो

 

Wo Tamana Tumhi Ho

Maloom hota hai bhul gye ho shyad.
Ya phir kamal ka sabar rakhte ho.
Ham jis say zinda hain woh tamana tumhi ho.
Hum jis mein bus rahein hain wo dunia tumhi ho.

urdu and hindi shayari , tamana shayari – Ham jis say zinda hain woh tamana tumhi ho
Like it
[Total: 300 Average: 2.8]

वो शख्स देर तक सोया नहीं

ग़म की बारिश ने भी तेरे नक़्श को धोया नहीं
तुम ने मुझे खो दिया मेंने तुझे खोया नहीं

नींद का हल्का गुलाबी सा खुमार था उस की आँखों में
यूं लगा जैसे वो शख्स देर तक सोया नहीं

जानता हूँ एक ऐसे शख्स को में भी मुनीर
ग़म से पत्थर हो गया मगर कभी रोया नहीं

हिंदी और उर्दू शायरी – ग़म शायरी – ग़म की बारिश ने भी तेरे नक़्श को धोया नहीं

 

Wo Shaksh Dair Tak Soya Nahi

Gham ki barish ney bhi tere naqsh ko dhoya nhi
Tumne mujay kho diya mein ne tujay khoya nhi

Neend ka hlka gulaabi sa khumar tha us ki aankhon mein
Yoon laga jaisay woh shaksh dair tak soya nhi

Janta hon aik aisay shakhs ko mein bhi muneer
Gham se pathar ho gaya magr kabi roya nhi

urdu and hindi shayari , Gham shayari – Gham ki barish ney bhi tere naqsh ko dhoya nhi
Like it
[Total: 300 Average: 2.8]

आओ बातें करें और हमारे पोस्ट के बारे में हमे बताइये - Please Post the comment