tijaarat
Posted in Public Post Shayar and Poet Shayari

मुहब्बत भी तिजारत हो गयी है इस ज़माने में – Sahir Ludhianvi

कोई इलज़ाम यह हुस्न तेरा यह इश्क़ मेरा रंगीन तो है बदनाम सही मुझ पर तो कई इलज़ाम लगे तुझ पर भी कोई इलज़ाम सही…

Continue Reading...
Posted in Public Post Shayari

थामी है कलाई अब न छुटेगी मुझसे – चूड़ियाँ

यादों का इक झोंखा यादों का इक झोंखा आया मुद्द्तों बाद पहले इतना रोये नहीं जितना रोये बरसों बाद लम्हां लम्हां गुजरा तो  हमे अहसास…

Continue Reading...
mirza-ghalib
Posted in Public Post Shayar and Poet Shayari Two Line Shayari

Mirza Ghalib – मिर्ज़ा ग़ालिब

तू तो वो जालिम है तू तो वो जालिम है जो दिल में रह कर भी मेरा न बन सका , ग़ालिब और दिल वो…

Continue Reading...
Aks-AE-Khushboo
Posted in Public Post Shayari

तेरी खुशबू का एहसास – अक्स-ऐ-खुशबू हूँ उर्दू शायरी

खुशबू की तरह आया वो तेज़ हवाओं में माँगा था जिसे हमने दिन रात दुआओं में अक्स -ऐ -खुशबू हूँ अक्स -ऐ -खुशबू हूँ बिखरने…

Continue Reading...