आलम इक़बाल
Posted in Public Post Shayar and Poet Shayari

अगर न बदलू तेरी खातिर हर एक चीज़ तो कहना – आलम इक़बाल की शायरी

  अगर न बदलू तेरी खातिर हर एक चीज़ तो कहना मुहब्बत की तमना है तो फिर वो वस्फ पैदा कर जहां से इश्क़ चलता…

Continue Reading...
Wasi Shah Shayari
Posted in Shayar and Poet Shayari

Wasi Shah Shayari – Ankhon Se Meri is Liye Lali Nahi Jati

आँखों से मेरी इस लिए लाली नहीं जाती आँखों से मेरी इस लिए लाली नहीं जाती यादों से कोई रात जो खाली नहीं जाती अब…

Continue Reading...