हुस्न की तारीफ…

 

husanwale

 

उसके चेहरे की चमक

उसके चेहरे की चमक के सामने सब सादा लगा
आसमान पे चाँद पूरा था मगर आधा लगा

URDU AND HINDI SHAYARI – HUSN – Uske Chehre Ki Chamak Ke Samne Sab Sadaa Laga
Like it
[Total: 60376 Average: 3]

हमारे सुहाग की वो रात

कैसी थी वो रात कुछ कह सकता नहीं मैं
चाहूँ कहना तो बयां कर सकता नहीं मैं ,

दुल्हन बन के मेरी जब वो मेरी बाँहों में आयी थी
सेज सजी थी फूलों की पर उस ने महकाई थी

घूँघट में इक चाँद था और सिर्फ तन्हाई थी
आवाज़ दिल के धड़कने की भी फिर ज़ोर से आयी थी

प्यार से जो मैंने घूँघट चाँद पर से हटाया था
प्यार का रंग भी उतरकर उसके चेहरे पर आया था

बाँहों में ले कर उसको फिर लबो की लाली चुराई थी
उस सर्द रात में साँसे भी शोला बन कर टकराई थी

टिका बिंदी , कंगना , पायल सब ने शोर मचाया था
जब उसके शोख बदन को मैंने हाथ लगाया था ,

डूब गए थे हम दोनों उस दहकती प्यार की आग में
तोड़ दिया था हम ने कलियों को उसके प्यार के बाग़ में

क्या बतलाये अब हम वह रात किस कदर निराली थी
हमारे सुहाग की वो रात ,जो इतनी शोख मतवाली थी

URDU AND HINDI SHAYARI – HUSN – Hamare suhag ki wo raat
Like it
[Total: 60376 Average: 3]

हुस्न की शोखियाँ

बादलों में छुप रहा है चाँद क्यों
अपने हुस्न की शोखियों से पूछ लो
चांदनी पड़ी हुई है मंद क्यों
अपनी ही किसी अदा से पूछ लो

URDU AND HINDI SHAYARI – HUSN – Apne husan ki shokhiyon se pooch lo
Like it
[Total: 60376 Average: 3]

नज़र इस हुस्न पर

नज़र इस हुस्न पर ठहरे तो आखिर किस तरह ठहरे
कभी जो फूल बन जाये कभी रुखसार हो जाये

Urdu and hindi shayari – Husn – Nazar is HUSN par thehrey to aakhir kis tarah thehrey
Like it
[Total: 60376 Average: 3]

 


शफ़्फ़ाफ़ बदन

उफ़ वो संगेमरमर से तराशा हुआ शफ़्फ़ाफ़ बदन
देखने वाले जिसे ताज महल कहते हैं

Urdu and hindi shayari – Husn – Uff Woh SangeMarMar Se Taraasha Hoa Shaffaaf Badan
Like it
[Total: 60376 Average: 3]

ज़र्रे को आफताब होना था

हुस्न को बे-हिज़ाब होना था
शौक़ को कामयाब होना था

हिजर में कैफ-ऐ-इज़्तेराब न पूछ
खून -ऐ -दिल भी शराब होना था

तेरे जलवों पे मर मिट गए आखिर
ज़र्रे को आफताब होना था

कुछ तुम्हारी निगाह काफ़िर थी
कुछ मुझे भी खराब होना था

रात तारों का टूटना भी ‘मजाज़’
बाइस -ऐ -ना उम्मीद होना था

URDU AND HINDI SHAYARI – Majaz Urdu SHAYARI – zarre ko aafataab honaa thaa
Like it
[Total: 60376 Average: 3]

तेरी सादगी

तेरी सादगी का हुस्न भी लाजवाब है
मुझे नाज़ है के तू मेरा इंतेख़ाब है

URDU AND HINDI SHAYARI – Teri Saadgi Urdu SHAYARI – Teri Saadgi Ka Husun Bhi Lajawab Hai
Like it
[Total: 60376 Average: 3]

लोग किताबो जैसे

आँखे झीलों की तरह होंठ गुलाबो जैसे
अब भी होते है कई लोग किताबो जैसे

Urdu and hindi shayari – Ankhoo ki tareef shayari – Ankhe Jhilo ki tarah honth gulabo jaise
Like it
[Total: 60376 Average: 3]

अपना होश नहीं

जब से देखा हैं उन्हें मुझे अपना होश नहीं
जाने क्या चीज़ वो नज़रो से मुझे पिला देतें है

Urdu and hindi shayari – ankhoo ke husn ki tareef shayari – jane kya chez wo nazro se mujhe pila detein hai

जिनसे चाँद शर्माए

जरा सी देर के लिए सब कुछ भुला के देख लेते है
तुन्हे हम सामने बैठा कर देख लेते है
वो चेहरे कैसे होते है की जिनसे चाँद शर्माए
जरा तेरे चेहरे से जुल्फे हटा कर देख लेते है

Urdu and hindi shayari – ankhoo ke husn ki tareef shayari – wo chehre kaise hote hai ki jinse chand sharmaye
Like it
[Total: 60376 Average: 3]

हसीं ख्वाब

तेरे नैनो की शोख अदाओं ने हमे लूटा लिया
तेरी झील सी गहरी आँखों ने हमे लूटा लिया
हम तो लूट चुके है इस कदर ऐ हसीं ख्वाब
अब डरता हूँ कहीं कोई लूट न ले मेरे ख्वाब

Urdu and hindi shayari – ankhoo ke husn ki tareef shayari – Hum to loot chuke hai is kadar ae hasin khwaab
Like it
[Total: 60376 Average: 3]

सुना है लोग उसे आँख भर के देखते है

सुना है लोग उसे आँख भर के देखते है
तो उसके शहर में कुछ दिन ठहर के देखते है

सुना है राफत है उसे खराब हालो से
तो अपने आप को बर्बाद कर के देखते है

सुना है दर्द की गाहक है चस्मे नाज़ उसकी
तो हम भी उसकी गली से गुजर के देखते है

सुना है उसको भी है शेयर -ओ -शायरी से सराफ
तो हम भी मोईझे अपने हुनर के देखते है

सुना है बोले तो बातों से फूल झड़ते है
यह बात है तो चलो बात कर के देखते है

सुना है रात उसे चाँद तकता रहता है
सितारे बामे-ऐ-फलक से उतर के देखते है

सुना है दिन को उसे तितलियाँ सताती है
सुना है रात को जुगनू ठहर के देखते है

सुना है उसके बदन की तराश ऐसी है
फूल अपनी कवाएं क़तर के देखते है

रुके तो गर्दिशयें उसका तवाफ़ करते है
चले तो उसे ज़माने ठहर के देखते है

Urdu and hindi shayari – Husn – Faraz Controversial shayari – suna hai log use ankh bhar ke dekhte hai
Like it
[Total: 60376 Average: 3]

हसीनो की दोस्ती 

हसीनो से तो बस साहिब सलामत दूर से अच्छी
न इनकी दोस्ती अच्छी न इनकी दुस्मनी अच्छी

Urdu and hindi shayari – Husn – hasino ki dosti shayari – hasino se to bas sahab salamat door se achi

वो बला की शोख़ी

वो बला की शोख़ी देखी है तेरी नज़रो मैं
वो हुस्न वो नजाकत वो बेकाबू जुल्फ की घटा
क्या क्या बयान करू मैं ऐ शोख हसीना
हर बात बेमिासल है तेरे हुस्न की

Urdu and hindi shayari – Husn – najakat shayari – Wo bla ki shokhi dekhi hai teri nazro main

तेरे रुखसार

दिल तो चाहता है चूम लू तेरे रुखसार…
फिर सोचते हैं के तेरे हुस्न को दाग़ न लग जाए …

Urdu and hindi shayari – Husn – Rukhsaar shayari – Dil Tou Chahta Hai Choom Lu Tere Rukhsaar

इश्क़ का इम्तिहान

क्यों यह हुस्न वाले इतने मिज़ाज़ -ऐ -गरूर होते है
इश्क़ का लेते है इम्तिहान और खुद तालीम -ऐ -जदीद होते है

Urdu and hindi shayari – Husn – Ishq ka imtihan shayari – Kyon yeah husn wale itne mizaz-ae-groor hote hai

कौन होश में रहता है तुझे देखने के बाद

तेरे हुस्न को परदे की ज़रुरत नहीं है ग़ालिब
कौन होश में रहता है तुझे देखने के बाद

Urdu and hindi shayari – Husn – Mirza Galib ki shayari – Tere Husn Ko Parde Ki Zaroorat Nahi Hai Ghalib

यह पर्दादारी है क्या तमाशा
मुझ ही में रह कर मुझी से पर्दा
तबाह करना अगर है मुझको
नकाब उठा तबाह कर

Shayari , शायरी , Yaad and Ghamgeen Shayari – pardadari , husn

कांच का जिस्म कहीं टूट न जाये
हुस्न वाले तेरी अंगड़ाइयो से डर लगता है

Husn Shayari ,  Shayari,Hindi and Urdu Shayari – मोहबत की शायरी , हुस्न की शायरी

जख्म है गहरे और न आये मुझे उन्हें सीना
उसके जख्मो के बिन जिंदगी क्या जीना
अगर लफ्ज़ो में तेरी तारीफ करू तो
तेरे हुस्न की बेअदबी होगी
बस तू यह जान ले
चाँद भी अधूरा है तेरे बिना

Husn Shayari ,  Shayari,Hindi and Urdu Shayari – मोहबत की शायरी , हुस्न की शायरी

हुस्न वालों के पीछे दीवाने चले आते है
शमा के पीछे परवाने चले आते है
तुम भी चली आना मेरे जनाजे के पीछे
उसमे अपने तो क्या बेगाने भी चले आते है

Husn Shayari ,  Shayari,Hindi and Urdu Shayari – मोहबत की शायरी , हुस्न की शायरी

कातिल तेरी अदाओं ने लूटा है
मुझे तेरी जफ़ाओं ने लूटा है
शौंक नहीं था मुझे मर मिटने का
मुझे तो आपकी इन्ही निगाहों ने लूटा है

Husn Shayari ,  Shayari,Hindi and Urdu Shayari – मोहबत की शायरी , हुस्न की शायरी

तेरे हुस्न की तारीफ मेरी शायरी के बस की नहीं….
तुझ जैसी कोई और कायनात में ही नहीं बनी….

हुस्न की तारीफ Shayari,Hindi and Urdu Shayari – मोहबत की शायरी , हुस्न की शायरी

तेरा मुस्कुराना देना जैसे पतझड़ में बहार हो जाये….
जो तुझे देख ले वो तेरे हुस्न में ही खो जाये….

हुस्न की तारीफ Shayari,Hindi and Urdu Shayari – मोहबत की शायरी , हुस्न की शायरी

आंखे तेरी जैसी समन्दर हो शराब का…
पी के झूमता रहे कोई नशा तेरे शबाब का….

हुस्न की तारीफ Shayari,Hindi and Urdu Shayari – मोहबत की शायरी , हुस्न की शायरी

होंथ तेरे गुलाब के फूल से भी कोमल है….
चूमते वक्त कहीं खरोच ना लग जाये दिल में बस मेरे ये ही डर रहे…

हुस्न की तारीफ Shayari,Hindi and Urdu Shayari – मोहबत की शायरी , हुस्न की शायरी

तेरे जिस्म की बनावट संगमरमर की मूरत से कम नहीं….
तुझे देख लूं जी भर के फिर मरने का भी गम नहीं…

हुस्न की तारीफ Shayari,Hindi and Urdu Shayari – मोहबत की शायरी , हुस्न की शायरी

तेरी जुबान से निकले जो बोल तो मानों कोयल भी शरमा जाये…
तू जो अपने जुबान से मर जाने को कहे तो मरने वाले को भी मरने का मजा आ जाये….

हुस्न की तारीफ Shayari,Hindi and Urdu Shayari – मोहबत की शायरी , हुस्न की शायरी

मैं अदना सा एक शायर तेरे हुस्न की और क्या तरीफ करूं…
मैं तेरे लिए ही जीता हूं और रब करे तेरे लिए ही मरूं….

हुस्न की तारीफ Shayari,Hindi and Urdu Shayari – मोहबत की शायरी , हुस्न की शायरी