एक बन गया दिन और दूसरा रात हो गया

एक बन गया दिन और दूसरा रात हो गया

जो न हुआ कभी एक रात हो गया 
चाँद को सूरज से पयार हो गया 
चाँद निकला तलाश मैं और खो गया 
चाँद के जाते हो आसमान उदास हो गया ,
सूरज तो जलता ही रहा इंतज़ार में और आग हो गया
सूरज की खता से चाँद के लिए अँधेरा हो गया
चाँद ने की बेवफाई और तार्रों के साथ हो गया
सिला मिला कुछ इस तरह दोनों पे ग्रहण हो गया
करते रहे बेरुखी हमेशा के लिए
एक बन गया दिन और दूसरा रात हो गया

हिंदी और उर्दू शायरी – चाँद और सूरज की शायरी – चाँद को सूरज से पयार हो गया

 

Ek Bann Gaya Din Aur Dusra Raat Ho Gaya

Jo na hua kabhi ek raat ho gaya,
Chaand ko suraj se payar ho gya,
Chaand niklaa talash main aur khoo gya
Chaand ke jatay hi aasman udas ho gaya
Suraj to jalta hi raha intezar mein or aag ho gaya
Suraj ki khaata se chaand ke liye andhera ho gaya
Chaand ne ki bewafai or tarron ke sath ho gaya
Sila milah kuch iss tarah dono pe garehan ho gya
Kartay rahay berukhi hamesha k liye
 Ek bann gaya din aur dusra raat ho gaya

Hindi and urdu shayari – Chand aur Suraj Ki Shayari – dard ke phuul bhii khilate hain bikhar jaate hain
Like it
[Total: 127 Average: 3.2]

लहू रोने से डरती हूँ

लहू रोने से डरती हूँ , जुदा होने से डरती हूँ 
मेरी आँखें बताती हैं के मैं सोने से डरती हूँ 
मेरी उंगली पकड़ लेना मुझे तन्हा नहीं करना 
यह दुनिया एक मेला है तुम्हें खोने से डरती हूँ
जो हंसती हो तू क्यों पलकें भीग जाती हैं 
तुम्हें मालूम है मैं इस तरह रोने से डरती हूँ
यह जब से ख्वाब देखा है तुम मुझे छोड़ जाओगे 
मैं अब डरती हूँ ख़्वाबों से मैं अब सोने से डरती हूँ

हिंदी और उर्दू शायरी – ख्वाब और दर्द की शायरी – मैं अब डरती हूँ ख़्वाबों से मैं अब सोने से डरती हूँ

 

Lahoo Ronay Se Darti Hoon

Lahoo ronay se darti hoon , juda honay se darti hoon
Meri aankhain batati hain k main sonay se darti hoon
Meri unggli pakar laina mujhe tanha nahi karna
Ye dunya aik maila hai tumhain khonay se darti hoon
Jo hansti ho tu kyun palkoon k goshay bheeg jatay hain
Tumhain maloom hai main iss tarah ronay se darti hoon
Ye jab se khwaab daikha hai tum mujhe choor jaoge
Main ab darti hoon khwaabon se main ab sonay se darti hoon

Hindi and urdu shayari – khwaab aur Dard Ki Shayari – Main ab darti hoon khwaabon se main ab sonay se darti hoon
Like it
[Total: 127 Average: 3.2]

1 thought on “एक बन गया दिन और दूसरा रात हो गया

आओ बातें करें और हमारे पोस्ट के बारे में हमे बताइये - Please Post the comment