Posted in Public Post

एहसास और ख्वाब शायरी

  एहसास और ख्वाब शायरी अपने एहसास से छू कर मुझे चन्दन कर दो में सदियों से अधूरा हूँ , मुझे मुकम्मल कर दो न तुम्हें होश…

Continue Reading...