Yeh shaam tere naam
Posted in Public Post Shayari

यह उदास शाम और तेरी जुदाई – यह शाम तेरे नाम शायरी

Share on Tumblr वो रोज़ देखता है डूबते हुए सूरज को “फ़राज़ “ काश मैं भी किसी शाम का मँज़र होता…!!! शाम-ऐ-तन्हाई शाम से है…

Continue Reading...