एक उम्मीद ज़िन्दगी की – पारिवारिक ज्ञान

उम्मीद ज़िन्दगी

उम्मीद  उस   ख़ुशी  का  नाम  है  जिस  के  इंतज़ार  में  ग़म  के  अय्याम  कट  जाते  हैं 

रिश्ते आजकल

उंगलिया ही निभा रही है रिश्ते आजकल, जुबां से निभाने का वक़्त कहाँ है
सब टच में बिजी है पर टच में कोई नहीं है

एक उम्मीद ज़िन्दगी की – पारिवारिक ज्ञान – उंगलिया ही निभा रही है रिश्ते आजकल
Like it
[Total: 4324 Average: 3.1]

रिश्तों की सिलाई

रिश्तों की सिलाई अगर भावनाओ से हुई है तो टूटना मुश्किल है
और अगर स्वार्थ से हुई है तो टिकना मुश्किल है

एक उम्मीद ज़िन्दगी की – पारिवारिक ज्ञान – रिश्तों की सिलाई
Like it
[Total: 4324 Average: 3.1]

ज़िन्दगी का गणित

कुएं में उतरने वाली बाल्टी यदि झुकती है तो भर कर बाहर निकलती है
ज़िन्दगी का भी यही गणित है जो झुकता है वह प्राप्प्त करता है

एक उम्मीद ज़िन्दगी की – पारिवारिक ज्ञान – ज़िन्दगी का भी यही गणित है
Like it
[Total: 4324 Average: 3.1]

ज़िन्दगी का मकसक

बस दिलो को जीतना ही ज़िन्दगी का मकसक होना चाहिए,
वरना , दुनिया जीतकर भी सिकंदर खाली हाथ ही गया था

एक उम्मीद ज़िन्दगी की – पारिवारिक ज्ञान – दिलो को जीतना ही ज़िन्दगी का मकसक होना चाहिए
Like it
[Total: 4324 Average: 3.1]

वक़्त और हालात

जिस तरह मौसम बदलने का एक वक़्त होता है
इसी तरह वक़्त बदलने का भी एक मौसम होता है
हालात बदलते तो ही रहते हैं ,
हालात के साथ हालत भी बदल जाते है

एक उम्मीद ज़िन्दगी की – पारिवारिक ज्ञान – हालात बदलते तो ही रहते हैं
Like it
[Total: 4324 Average: 3.1]

ज़रूरत और इंसान

इंसान अंदर से बुरा नही होता
जरूरते इंसान को बुरा बनाती है
और ज़रूरत ही इंसान को नेक इंसान बनाती है
​ज़रूरत निकाल दो … इंसान ठीक

एक उम्मीद ज़िन्दगी की – पारिवारिक ज्ञान – जरूरते इंसान को बुरा बनाती है
Like it
[Total: 4324 Average: 3.1]

इंसान कब मरता है

वो शख्स मर गया जो किसी के दिल में न रहा ​
इंसान कब मरता है … जब दिल से उतरता है ​
ज़िंदा कब होता है … जब दिल में उतरता है ​

एक उम्मीद ज़िन्दगी की – पारिवारिक ज्ञान – इंसान कब मरता है
Like it
[Total: 4324 Average: 3.1]

रिश्ते निभाने की सलाहियत

माफ़ी मांगने का यह मतलब नही होता के
हम ग़लत और दूसरा सही है
बल्कि असल मतलब यह है के हम में
रिश्ते निभाने की सलाहियत दूसरो से ज्यादा है

एक उम्मीद ज़िन्दगी की – पारिवारिक ज्ञान – रिश्ते निभाने की सलाहियत दूसरो से ज्यादा है
Like it
[Total: 4324 Average: 3.1]

दुःख बिछड़ जाने का

जब कोई बिछड़ता है तो हर किसी को दुःख होता है ,
किसी को कम और किसी को ज़्यादा ,
किसी को पूरा गम किसी को आधा ,
मगर दुःख उस के जाने का नहीं होता ,
उस के खोने का नहीं होता , दुःख उस से बिछड़ने या उस की जुदाई का भी नहीं होता .
दुःख ज़रूर होता है ….मगर , सिर्फ अपने तन्हा रह जाने का .​

एक उम्मीद ज़िन्दगी की – पारिवारिक ज्ञान – जब कोई बिछड़ता है तो हर किसी को दुःख होता है
Like it
[Total: 4324 Average: 3.1]

 

जब कोई अपना अगला कदम पहचानने लगता है तो परिवर्तन का दौर आरंभ हो जाता है 

आओ बातें करें और हमारे पोस्ट के बारे में हमे बताइये - Please Post the comment