Wasi Shah Shayari – Ankhon Se Meri is Liye Lali Nahi Jati

Wasi Shah Shayari

आँखों से मेरी इस लिए लाली नहीं जाती

आँखों से मेरी इस लिए लाली नहीं जाती
यादों से कोई रात जो खाली नहीं जाती

अब उम्र न मौसम न वो रास्ते के वो पलटे
इस दिल की मगर खामं ख्याली नही जाती

मांगे तू अगर जान भी हंस के तुझे दे दें
तेरी तो कोई बात भी टाली नहीं जाती

अब आए कोई आकर यह तेरे दर्द संभाले 
अब हम से तो यह ज़ागीर संभाली नहीं जाती 

मालूम हमें भी हैं बहुत से तेरे क़िस्से 
हर बात तेरी हम से उछाली नही जाती 

हमराह तेरे फूल खिलाती थी जो दिल में 
अब शाम वही दर्द से खाली नहीं जाती 

हम जान से जायेंगे तभी बात बनेगी 
तुम से तो कोई राह  निकली नहीं जाती ….!!!

 

Ankhon Se Meri is Liye Lali Nahi Jati

Ankhon Se Meri is Liye Lali Nahi Jati
Yadoon Se Koi Raat jo Khali Nahi Jati

Ab Umar Na Mosam Na Woh Rastey Ke wo palte
Iss Dil Ki Magar Khaam Khayali Nahe Jati

Maange Tu Agar Jaan Bhi Hans kay tujhay De-Dein
Teri To Koi Baat Bhi Taali Nahi Jaati

Aya Koi Aaker Yeh Tere Dard Sambhaley
Hum Sai To Yeh Jageer Sambhali Nahi Jati

Maloom Humen Bhi Hain Bahut Se Tere Qissay
Har Baat Teri Hum Se Uchhali Nahi Jati

Humrah Tere Phool Khilaati Thi Jo Dil Mein
Ab Shaam Wahi Dard Se Khaali Nahi Jati

Hum Jaan Se Jayainge Tabhi Baat Banegi
Tum Se To Koi Raah Nikali Nahi Jati

 

Shayari Writen By – Wasi Shah

Like it
[Total: 4 Average: 3.5]

आओ बातें करें और हमारे पोस्ट के बारे में हमे बताइये - Please Post the comment