ज़ख्म-ऐ जिगर

zakham-ae-jigar

सज़ा

डूबी हैं मेरी उंगलियां खुद अपने ही लहू में ,
यह कांच के टुकड़ों को उठने की सज़ा है ..

हिंदी और उर्दू शायरी – सज़ा शायरी ( परवीन शाकिर ) – डूबी हैं मेरी उंगलियां

 

Sazaa

Doobi hain meri ungliyaan khud apne hi lahuu main,
Yeh kaanch ke tukrron ko uthaney ki sazaa hai..

urdu and hindi shayari , sazaa shayari (Perveen Shakir) – Doobi hain meri ungliyaan
Like it
[Total: 93 Average: 3.1]

गुज़रे हुए वक़्त की यादें

सजा बन जाती है गुज़रे हुए वक़्त की यादें ,
न जाने क्यों छोड़ जाने के लिए मेहरबान होते हैं लोग …

हिंदी और उर्दू शायरी – सज़ा शायरी ( परवीन शाकिर ) – गुज़रे हुए वक़्त की यादें

 

Guzre Hue Waqt Ki Yaadein

Saza Ban Jati Hai Guzre Hue Waqt Ki Yaadein,
Najaane Kyun ChoOr Jaane K Liye Meharban Hote Hein LoOg…

urdu and hindi shayari , sazaa shayari (Perveen Shakir) – Doobi hain meri ungliyaan
Like it
[Total: 93 Average: 3.1]

तेरी एक निगाह

मेरे पास इतने सवाल थे मेरी उम्र में न सिमट सके
तेरे पास जितने जवाब थे तेरी एक निगाह में आ गए

हिंदी और उर्दू शायरी – निगाह शायरी ( परवीन शाकिर ) – मेरे पास इतने सवाल थे

 

Teri ek nigaah

Mere paas itnay sawaal thay meri umar se na simat sakay
Tere paas jitnay jawaab thay teri ek nigaah main aa gaye!!

urdu and hindi shayari , nigaah shayari (Perveen Shakir) – Mere paas itnay sawaal thay
Like it
[Total: 93 Average: 3.1]

ज़ख्म-ऐ जिगर

दर्द क्या होता है बताएंगे किसी रोज़
कमाल की ग़ज़ल है तुम को सुनाएंगे किसी रोज़

थी उन की जिद के मैं जाऊँ उन को मनाने
मुझ को यह बेहम था वो बुलाएंगे किसी रोज़

कभी भी मैंने तो सोचा भी नहीं था
वो इतना मेरे दिल को दुखाएंगे किसी रोज़

हर रोज़ शीशे से यही पूछता हूँ मैं
क्या रुख पे तबस्सुम सजाएंगे किसी रोज़

उड़ने दो इन परिंदों को आज़ाद फ़िज़ाओं में
तुम्हारे हों अगर तो लौट आएंगे किसी रोज़

अपने सितम को देख लेना खुद ही साक़ी तुम
ज़ख्म-ऐ -जिगर तुमको दिखायेगें किसी रोज़

हिंदी और उर्दू शायरी – ज़ख्म-ऐ -जिगर शायरी ( परवीन शाकिर ) – ज़ख्म-ऐ -जिगर तुमको दिखायेगें किसी रोज़

 

Zakham-AE-Jigar

Dard Kya Hota Hai Batayein Gay Kisi Roz
Kamal Ki Ghazal Tum Ko Sunayein Gay Kisi Roz

Thi Un Ki Zid Ki Main Jaaoun Un Ko Manane
Mujh Ko Ye Veham Tha Wo Bulayein Gay Kisi Roz

Kabi Bhi Maine To Socha Bhi Nahi Tha
Wo Itna Mere Dil Ko Dukhayein Gay Kisi Roz

Har Roz Sheshay Se Yehi Poochta Hoon Main
Kya Rukh Pe Tabassum Sajayein Gay Kisi Roz

Urney Do In Parindon Ko Azaad Fizaon Mein
Tumhare Hon Agar To Lout Aayein Gay Kisi Roz

Apne Sitam Ko Dekh Lena Khud Hi Saqi Tum
Zakhm-AE-Jigar Tumko Dekhein Gay Kisi Roz

urdu and hindi shayari , Zakhm-AE-Jigar shayari (Perveen Shakir) – Zakhm-AE-Jigar Tumko Dekhein Gay Kisi Roz
Like it
[Total: 93 Average: 3.1]

1 thought on “ज़ख्म-ऐ जिगर

आओ बातें करें और हमारे पोस्ट के बारे में हमे बताइये - Please Post the comment