है ज़िन्दगी के दो जहाँ

फूल को उड़ा ले गयी हवा

जब एक एक फूल को उड़ा ले गयी हवा 
उस दिन बहार को मेरे घर का पता चला 
जब उठा ले चले हमें चार लोग 
उस दिन मेरे यार को मेरे प्यार का पता चला

हिंदी और उर्दू शायरी – फूल और बहार की शायरी – जब एक एक फूल को उड़ा ले गयी हवा

 

PHOOL KO UDAA LE GAYI HAWA

JAB EK EK PHOOL KO UDAA LE GAYI HAWA,
US DIN BAHAAR KO MERE GHAR KA PATA CHALA.
JAB UTHA LE CHALE HAME CHAAR LOG,
US DIN MERE YAAR KO MERE PYAAR KA PATA CHALA …..

Hindi and urdu shayari – Phool aur bahaar Ki Shayari – JAB EK EK PHUL KO UDAA LE GAYI HAWA
Like it
[Total: 232 Average: 3.1]

आसमान से दिल लगा बैठे

हुई हम से ये नादानी  के तेरी महफ़िल में आ बैठे
हो के ज़मीन की खाक आसमान से दिल लगा बैठे

हिंदी और उर्दू शायरी – महफ़िल की शायरी – हुई हम से ये नादानी

 

Aasman Se Dil Lagaa Baithe

Hui hum se yeh nadani, Kay teri mehfil mein aa baithe
Ho kay zameen ki khakh aasman se dil laga baithe

Hindi and urdu shayari – Mehfil Ki Shayari – Hui hum se ye nadani
Like it
[Total: 232 Average: 3.1]

दो जहाँ

है ज़िन्दगी के दो जहाँ
एक यह जहाँ एक वो जहाँ
इन दोनों जहाँ के दरम्यिान
बस फासला एक साँस का
जो चल रही तो यह जहाँ
जो रुक गई तो वो जहाँ

हिंदी और उर्दू शायरी – ज़िन्दगी और साँस की शायरी – हैं ज़िन्दगी के दो जहाँ

 

DO JAHAN

HAI  ZINDAGI KE DO JAHAN
EK YEH JAHAN EK WO JAHAN
IN DONO JAHAN KE DARMIAN
BUS FAASLA EK SAANS KA
JO CHAL RAHE TO YE JAHAN
JO RUK GAYE TO WO JAHAN

Hindi and urdu shayari – ZINDAGI aur SAANS Ki Shayari – HAIN ZINDAGI KE do JAHAN
Like it
[Total: 232 Average: 3.1]

तेरी महफ़िल में हूँ

बदला न मेरे बाद भी मोज़ो -ऐ -गुफ्तगू
मैं जा चूका हूँ फिर भी तेरी महफ़िल में हूँ

हिंदी और उर्दू शायरी – महफ़िल की शायरी – बदला न मेरे बाद भी मोज़ो -ऐ -गुफ्तगू

 

Teri Mehfil Mein Hoon

Badla Na Meray Baad Bhi Mozo-e-Guftagoo
Mein Ja Chuka Hoon PHir BHi Teri Mehfil Mein Hoon

Hindi and urdu shayari – Mehfil Ki Shayari – Badla Na Meray Baad Bhi Mozo-e-Guftagoo
Like it
[Total: 232 Average: 3.1]

आओ बातें करें और हमारे पोस्ट के बारे में हमे बताइये - Please Post the comment